Thursday, April 18, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाकोरबा: गेटकीपर की हत्या का हुआ खुलासा; पुलिस ने पाँच आरोपियों को...

कोरबा: गेटकीपर की हत्या का हुआ खुलासा; पुलिस ने पाँच आरोपियों को किया गिरफ्तार, शराब के नशे में उसके साथियों ने ही दिया था घटना को अंजाम…बड़े अधिकारियों से शिकायत बनी हत्या की वजह….

कोरबा: 2 दिन पहले उरगा क्षेत्र में हुई गेटकीपर के हत्या के मामले में पुलिस में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में रेलवे में पदस्थ एक गेटकीपर अपने साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था ।डॉग स्क्वायड व साइबर टीम की मदद से पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया। मृतक बड़े अधिकारियों से अक्सर उसकी शिकायत किया करता था। जिसकी वजह से वो नाराज था उसे सबक सिखाने के लिए उसने घटना को अंजाम दिया ।

उरगा थाना क्षेत्र अंतर्गत बड़वानी में रहने वाले हरेश सिंह रेलवे में गेट कीपर के पद पर पदस्थ था । नवलपुर फाटक के पास उसकी ड्यूटी थी। मड़वारानी और मदवानी के बीच स्थित नवलपुर फाटक के पास बने केबिन से कुछ ही दूरी पर शुक्रवार को हरीश का शव खून से लथपथ बरामद किया गया था । घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ डॉग स्क्वायड, साइबर ,फॉरेंसिक की टीम पहुंच गई थी। पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने बताया की इस मामले में बाघा डॉग ने काफी मदद की ।घटना को अंजाम देने के बाद 200 मीटर की दूरी पर बने बोर में जाकर आरोपियों ने खून साफ किया था बाघा ने घटनास्थल और बोर के पास से गंध लेकर सीधे आरोपियों के गांव कोचर जा पहुंचा और इस घटना में शामिल पवन श्रीवास के घर के आसपास घूमता रहा। पवन मृतक के साथ घूमता था।पुलिस ने इस मामले में पवन को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ शुरू की ,लेकिन वह पुलिस को गोल-मोल जवाब देता रहा । घटना को देखकर पुलिस अंदाजा लगा ली थी कि किसी एक व्यक्ति का काम नहीं है । इस मामले में पुलिस को जानकारी मिली कि गेट कीपर अजय ध्रुव घटना के दिन ही सुबह बिलासपुर चला गया है। इससे पुलिस का शक गहरा गया। पुलिस ने जब अजय ध्रुव को से संपर्क किया तो वह बिलासपुर में होने की जानकारी दी। पुलिस बिलासपुर जाकर अजय को पकड़कर कोरबा लाई और उससे पूछताछ की ।सभी आरोपी से अलग अलग पूछताछ किया गया । जिसके बाद पूछताछ में उन्होंने घटना को अंजाम देना स्वीकार किया । अजय ने बताया कि उसके साथ 4 साथी और थे । उसका कहना था कि हरेश अक्सर उसकी शिकायतें बड़े अधिकारियों से किया करता था । जिसकी वजह से वह काफी नाराज रहता था। बीच में उसका इस मामले को लेकर विवाद भी हुआ था। घटना के दिन पवन श्रीवास के घर सभी ने चिकन बनाया और शराब का सेवन भी किया इस दौरान अजय धुर्वे अपने साथियों से कहा कि मैं अक्सर तुम लोगों को पार्टी देता हूं लेकिन तुम लोग मेरा सहयोग नहीं करते। अजय की बातों में आकर पवन श्रीवास ,छत राम यादव, प्रेमदास महंत और शत्रुघ्न कुमार सभी नवलपुर फाटक के पास पहुंचे। उस दौरान हरीश कुमार ड्यूटी में तैनात था उन्होंने हरीश को कॉलर पकड़कर केबिन के बाहर निकाला और रोड में लाकर मारपीट किए । उसी दौरान अजय फावड़ा से हरेश के चेहरे और सिर पर कई बार वार किया जिससे उसकी मृत्यु हो गई। सभी आरोपी बोर में जाकर हाथ पैर धो कर फरार हो गए घटना के दिन ही पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त हाड़ा को बरामद कर लिया था

मामला सुलझाने में अहम भूमिका निभाने वाले बाघ को एसपी करेंगे पुरस्कृत 

उरगा क्षेत्र में हुई गेटकीपर के हत्या के मामले में पुलिस में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में रेलवे में पदस्थ एक गेटकीपर अपने साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था ।डॉग स्क्वायड व साइबर टीम की मदद से पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया। मृतक बड़े अधिकारियों से अक्सर उसकी शिकायत किया करता था। जिसकी वजह से वो नाराज था उसे सबक सिखाने के लिए उसने घटना को अंजाम दिया । इस मामले में पुलिस को आरोपियो तक पहुचाने में मदद करने वाले डॉग स्क़वाड को पुलिस अधीक्षक करेंगे पुरस्कृत।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular