Saturday, May 18, 2024
Homeछत्तीसगढ़जिन स्कूलों की मांन्यता रद्द, वहां 5 हजार से अधिक छात्रों का...

जिन स्कूलों की मांन्यता रद्द, वहां 5 हजार से अधिक छात्रों का हो चुका है प्रवेश…

छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर में 240 निजी स्कूलों की मान्यता रद्द किए जाने के बाद यहां प्रवेशित छात्रों के पालक स्कूल पहुंच रहे हैं। अधिकतर बड़े निजी विद्यालयों में जुलाई से शुरू होने वाले सत्र के लिए 6 माह पूर्व दिसंबर-जनवरी में ही प्रवेश प्रारंभ कर दिए जाते हैं

Schools to resume primary classes in Punjab from January 27

छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर में 240 निजी स्कूलों की मान्यता रद्द किए जाने के बाद यहां प्रवेशित छात्रों के पालक स्कूल पहुंच रहे हैं। अधिकतर बड़े निजी विद्यालयों में जुलाई से शुरू होने वाले सत्र के लिए 6 माह पूर्व दिसंबर-जनवरी में ही प्रवेश प्रारंभ कर दिए जाते हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिन स्कूलों की मान्यता रद्द की गई है वहां शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए 5 हजार से अधिक छात्रों का प्रवेश हो चुका है। इनमें पुराने छात्रों की संख्या शामिल नहीं है। केवल नर्सरी अथवा पहली कक्षा में ही 5 हजार छात्रों को अगले सत्र के लिए एडमिशन स्कूल प्रबंधन ने दे दिया है। इन छात्रों के पालक स्कूल पहुंचकर मान्यता संबंधित दस्तावेज प्रबंधन से दिखाने की मांग कर रहे हैं। पहले से ही विद्यालय में अध्ययनरत छात्रों के अभिभावक भी पहुंच रहे हैं। वहीं बुधवार को जिला शिक्षा कार्यालय में एक कर्मचारी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कार्यालय गुरुवार तक के लिए बंद कर दिया गया है। इसलिए मान्यता संबंधित अन्य किसी प्रकार की कार्रवाई बुधवार को नहीं हो सकी। जिनकी मान्यता रद्द की गई है वे अपने यहां बैठक कर फीस समिति गठित करने में जुट गए हैं ताकि जल्द से जल्द अपील कर मान्यता वापस प्राप्त कर सकें।

पंजाब में 27 जनवरी से प्राइमरी कक्षाओं को लिए फिर से शुरू होंगे स्कूल करेंगे मानहानि का दावा दूसरी ओर निजी स्कूल संचालक जिला शिक्षा कार्यालय पर मानहानि का दावा करने की तैयारी में हैं। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव गुप्ता का कहना है कि कई ऐसे स्कूल भी सूची में हैं जिनके द्वारा फीस नियामक समिति गठित कर ली गई किंतु नोडल प्राचार्यों द्वारा चीजाें को गंभीरता से नहीं लिया गया। नोडल प्राचार्यों के कारण उनकी मान्यता रद्द की गई है। इससे निजी स्कूलों की छवि धुमिल हुई है। गौरतलब है कि फीस नियामक समिति का गठन नहीं किए जाने के कारण सोमवार को जिले के 240 निजी स्कूलों की मान्यता जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा रद्द की गई है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular