Saturday, April 20, 2024
Homeदेश-विदेशभारत ने लड़ाकू विमान सुखोई-30 से रुद्रम-1 एंटी रेडिएशन मिसाइल का किया...

भारत ने लड़ाकू विमान सुखोई-30 से रुद्रम-1 एंटी रेडिएशन मिसाइल का किया सफल परीक्षण; दुश्मन के रेडार को गिराने वाला पहला एंटी रेडिएशन मिसाइल…

भारत ने शुक्रवार को सफलतापूर्वक लड़ाकू विमान सुखोई-30 से रुद्रम-1 एंटी रेडिएशन मिसाइल का सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने तैयार किया है। यह मिसाइल हवा में भारतीय लड़ाकू विमान की मारक क्षमता को बढ़ाएगी और टैक्टिकल कैपेबिलिटी को भी बढ़ाएगी।

पूरे मामले से वाकिफ सूत्र ने बताया कि इस मिसाइल की लाउंच स्पीड आवाज से भी दोगुनी है। डीआरडीओ ने नई पीढ़ी के हथियार विकसित किए हैं। इसका सुबह साढे दस बजे ओडिशा तट पर परीक्षण किया गया।

डीआरडीओ के सफलतापूर्वक परीक्षण पर एक अधिकारी सूत्र ने बताया कि यह एक बड़ी सफलता है। उन्होंने कहा कि इससे भारतीय वायुसेना को दुश्मन के एयर डिफेंस सिस्टम को काफी अंदर जाकर उसे नष्ट करने की क्षमता हो गई है।

भारत में बनाई गई ये ऐसी पहली मिसाइल है, जो किसी भी ऊंचाई से दागी जा सकती है। ये मिसाइल किसी भी तरह के सिग्नल और रेडिएशन को पकड़ सकती है। साथ ही अपनी रडार में लाकर ये मिसाइल नष्ट कर सकती है।

इससे पहले, भारत ने देश में विकसित ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो (स्मार्ट) प्रणाली का सोमवार को ओडिशा अपतटीय क्षेत्र स्थित एक परीक्षण केंद्र से सफल प्रायोगिक परीक्षण किया। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ‘स्मार्ट प्रणाली पनडुब्बी’ विध्वंसक युद्ध अभियानों के लिए है।

मंत्रालय ने कहा, ”आज पांच अक्टूबर 2020 को ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो (स्मार्ट) का सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर ओडिशा के अपतटीय क्षेत्र स्थित व्हीलर द्वीप से सफल परीक्षण किया गया है। व्हीलर द्वीप को अब अब्दुल कलाम द्वीप कहा जाता है।”

परीक्षण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने किया। बयान में कहा गया कि परीक्षण सफल रहा और सभी मानक प्राप्त कर लिए गए। ‘स्मार्ट प्रणाली पनडुब्बी’ विध्वंसक अभियानों के लिए हल्के वजन की टॉरपीडो प्रणाली है। बयान में कहा गया कि यह परीक्षण और प्रदर्शन पनडुब्बी रोधी क्षमता स्थापित करने में काफी महत्वपूर्ण है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक अधिकारी ने बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस परीक्षण के लिए डीआरडीओ के वैज्ञानिकों को बधाई दी। यह परीक्षण पनडुब्बी रोधी युद्ध कौशल में एक बड़ी उपलब्धि है। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ”डीआरडीओ, भारत ने ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो (स्मार्ट) का सफल परीक्षण किया है जो पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता में एक बड़ी उपलब्धि होगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular