Sunday, June 16, 2024
Homeछत्तीसगढ़रायगढ़: महज 30 हजार रुपए के लिए अस्पताल प्रबंधन ने मासूम के...

रायगढ़: महज 30 हजार रुपए के लिए अस्पताल प्रबंधन ने मासूम के शव को बनाया बंधक…

एक 8 साल के मासूम के शव को महज 30 हजार रुपए के लिए दिनभर बंधक बनाकर अस्पताल में रख लिया गया। जब इस बात की जानकारी प्रशासन को हुई तो एसडीएम के निर्देश पर देर रात शव को अस्पताल के कब्जे से मुक्त कराया गया।मामला सारंगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत संचालित राधाकृष्ण अस्पताल का है। इस अस्पताल में सारंगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम जशपुर निवासी 8 साल के मासूम भूरु राम सारथी को उसके पेट एवं सीने में दर्द होने की शिकायत के बाद भर्ती कराया गया था। जहां उसे आईसीयू में रखकर इलाज किया गया एवं 4 दिन बाद जनरल वार्ड में यह कहकर शिफ्ट कर दिया गया कि वह अब पूरी तरह से स्वस्थ है।

रायगढ़. एक 8 साल के मासूम के शव को महज 30 हजार रुपए के लिए दिनभर बंधक बनाकर अस्पताल में रख लिया गया। जब इस बात की जानकारी प्रशासन को हुई तो एसडीएम के निर्देश पर देर रात शव को अस्पताल के कब्जे से मुक्त कराया गया।मामला सारंगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत संचालित राधाकृष्ण अस्पताल का है। इस अस्पताल में सारंगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम जशपुर निवासी 8 साल के मासूम भूरु राम सारथी को उसके पेट एवं सीने में दर्द होने की शिकायत के बाद भर्ती कराया गया था। जहां उसे आईसीयू में रखकर इलाज किया गया एवं 4 दिन बाद जनरल वार्ड में यह कहकर शिफ्ट कर दिया गया कि वह अब पूरी तरह से स्वस्थ है। अस्पताल प्रबंधन ने 48 हजार रूपज जमा कर बच्चे को घर ले जाने की सलाह दे दी। लेकिन, आर्थिक रूप से कमजोर परिजनों की ओर से रुपए इंतजाम के काफी प्रयास के बावजूद भी इस रकम की व्यवस्था नहीं हो सकी। तभी लगभग 2 बजे बच्चे की मौत हो गई। अस्पताल प्रबंधन की ओर से बताया गया कि डेड बॉडी को 48 हजार रुपए दिए बिना वह नहीं ले जा सकते। उन्होंने किसी प्रकार 10000 का इंतजाम किया और उसे अस्पताल में जमा करते हुए शेष रकम बाद में देने की मिन्नत की लेकिन, अस्पताल प्रबंधन नहीं माना और पूरे रुपए जमा करने के बाद ही शव को घर ले जाने की बात पर अड़ा रहा। बच्चे की मौत होने के बाद परिजन व्याकुल होकर इधर-उधर भटकते रहे बावजूद इसके रुपए का इंतजाम नहीं हो रहा था। शव को बंधक बनाए जाने की खबर जब स्थानीय प्रशासन को मीडिया के जरिए मिली तो एसडीएम नंद कुमार चौबे ने तहसीलदार और बीएमओ को अस्पताल भेजा।

डॉ. रमन सिंह ने सीएम भूपेश को लिखा- ‘आप राज्यपाल का अपमान कर रहे हैं, आप पीसीसी अध्यक्ष नहीं हैं’ जहां प्रशासनिक अमले ने अस्पताल प्रबंधन को इस बात की समझाइश दी की परिवार अत्यंत गरीब है ऐसे में वह अपना सामाजिक दायित्व भी निभाए। प्रशासनिक समझाइश के बाद अस्पताल प्रबंधन ने कुछ दिनों की मोहलत दे कर देर रात बच्चे के शव को ले जाने की अनुमति दी। मृतक के परिजनों ने बताया कि अस्पताल की ओर से रुपयों के अभाव में बच्चे का ठीक से इलाज भी नहीं किया गया इसलिए उसकी मौत हो गई। वहीं 48हजार का बिल बनाया गया था जिसमें 8हजार डिस्काउंट किया गया था और 10हजार उन्होंने व्यवस्था करके अस्पताल में जमा करा दिया था। शेष 30हजार का इंतजाम नहीं हो पाया था। बंधक नहीं बनाया : अस्पताल प्रबंधन अस्पताल प्रबंधन की ओर से डीडी साहू ने बताया कि बच्चे को बंधक नहीं बनाया गया था। यह आरोप झूठे हैं। बच्चे को झटके आने की बीमारी थी। इलाज के बाद उसे स्वस्थ कर दिया गया। लेकिन दोपहर में जब उसकी मां खाना खिला रही थी तो एक बार फिर उसे झटका आया और वह स्पिल्ट कर गया। जिससे उसकी मौत हो गई। परिजन रुपयों का इंतजाम करने गए हुए थे। देर रात उनके पहचान वाले और प्रशासन की टीम आई थी तो पैसे देने की उनकी गारंटी पर बच्चे के शव को मुक्त कर दिया गया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular