Friday, March 1, 2024
Homeछत्तीसगढ़रायपुररायपुर:​​​​​​​ चंगोराभाठा के गणपति नगर के एक हिस्से में पसरा है सन्नाटा,...

रायपुर:​​​​​​​ चंगोराभाठा के गणपति नगर के एक हिस्से में पसरा है सन्नाटा, दूसरे हिस्से में भीड़ लगाए लोग कह रहे हैं- कोनो चिंता के बात नइहे

  • तीन गलियों की गई है बाड़बंदी, लेकिन प्रशासन-पुलिस का पहरा नहीं
  • प्रतिबंधित इलाके में आवाजाही की शिकायतें भी मिल रहीं

रायपुर में सीजन की पहली बाड़बंदी के पहले दिन चंगोराभाठा के गणपति नगर का एक हिस्सा सन्नाटे में डूबा हुआ है। कॉलोनी की तीन गलियों से घिरे 13-14 घरों के इस छोटे से हिस्से को प्रशासन ने कंटेनमेंट जोन बनाकर आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है। यहां 11 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसकी वजह से प्रशासन चिंतित है, लेकिन इस बाड़बंदी के ठीक बाहर की आबादी बेफिक्र है।

कंटेनमेंट जोन की ओर जाने वाली गली के ठीक मुहाने पर एक निर्माणाधीन मकान में दर्जनों मजदूर अपना काम कर रहे हैं। अधिकतर ने मास्क नहीं लगाया है। मोड़ के पास एक दुकान पर 22-24 साल के राहुल मिल जाते हैं। बेफिक्र हैं, मास्क नहीं लगा रखा है। पूछने पर कहते हैं घर से ही तो आ रहा हूं। पास में ही कंटेनमेंट जोन की मौजूदगी पर जवाब भी उसी बेफिक्री वाला है। कहते हैं कि “कोनो चिंता के बात नइहे” यानी इसमें चिंता की कोई बात नहीं है!

कंटेनमेंट जोन बनाए गए कॉलोनी के हिस्से को तीन तरफ से बांस-बल्ली से घेर दिया गया है। वहां प्रतिबंधित क्षेत्र का बैनर हवा में फड़फड़ा रहा है। लेकिन, प्रतिबंधों को लागू कराने के लिए प्रशासन का कोई नुमाइंदा वहां मौजूद नहीं है। इस विषय पर गली में कोई बात करने को भी तैयार नहीं। एक सज्जन ने बताया, प्रशासन के कुछ लोग दोपहर से थोड़ा पहले आये थे। थोड़ी देर रुककर चले गए। उस व्यक्ति ने बताया कि इक्का-दुक्का लोग बांस-बल्ली को पार कर आना-जाना कर रहे हैं, ऐसा सुनने में आया है। हालांकि उन्होंने कल से किसी को ऐसा करते नहीं देखा।

गणपति नगर कंटेनमेंट जोन के ठीक बाहर की इस गली में स्थिति सामान्य दिख रही है। यहां कई मजदूर काम भी कर रहे हैं। पिछले वर्ष इस हिस्से को कंटेनमेंट जोन बनाया गया था।

गणपति नगर कंटेनमेंट जोन के ठीक बाहर की इस गली में स्थिति सामान्य दिख रही है। यहां कई मजदूर काम भी कर रहे हैं। पिछले वर्ष इस हिस्से को कंटेनमेंट जोन बनाया गया था।

पिछली लहर में दूसरी तरफ का हिस्सा था प्रतिबंधित
बताया गया, कोरोना की पिछली लहर में भी गणपति नगर में कंटेनमेंट जोन बना था। उस समय मौजूदा कंटेनमेंट जोन की ओर जाने वाली गली को कंटेनमेंट जोन बनाया गया था। वहां एक व्यक्ति को कोरोना हुआ था। तब की कोरोना गाइडलाइन के तहत प्रशासन एक व्यक्ति पर भी पूरे मोहल्ले को प्रतिबंधित कर रहा था।

ऐसी है गाइडलाइन

कंटेनमेंट जोन घोषित करते समय कलेक्टर ने जो दिशानिर्देश जारी किये थे, उसके मुताबिक ऐसे क्षेत्र में मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर लोगों का घरों से बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी में भी बाहर निकलने के लिये CMHO से जारी पास जरूरी होगा। आवश्यक वस्तुओं की होम डिलिवरी हो सकेगी। बेरीकेटिंग के बाहर पुलिस कर्मियों की तैनाती रहेगी ताकि कंटेनमेंट जोन के प्रतिबंधों का उल्लंघन रोका जा सके।

दूसरे मोहल्लों की समीक्षा कर रहा प्रशासन

एक दिन में दो कंटेनमेंट जोन बनाने के बाद रायपुर जिला प्रशासन हालात की समीक्षा कर रहा है। रायपुर कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने गुरुवार को न्यू राजेंद्र नगर और अमलीडीह में भी कंटेनमेंट जोन बनाने की बात कही थी, लेकिन शुक्रवार शाम तक उसका आदेश जारी नहीं हो पाया। फिलहाल सबसे बड़े कंटेनमेंट जोन अविनाश प्राइड में कांटेक्ट ट्रेसिंग का काम भी चल रहा है।

  • Krishna Baloon
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular