Thursday, April 18, 2024
Homeदेश-विदेशवास्तु शास्त्र : घर की ये 4 चीजें ही धन आगमन में...

वास्तु शास्त्र : घर की ये 4 चीजें ही धन आगमन में बनती हैं बाधा, भूलकर भी न करें नजरअंदाज, पढ़ें क्या कहता है वास्तु…

हर कोई सुख-सुविधाओं से भरा जीवन बिताना चाहता है। हालांकि कई बार हमारे घर में ऐसी वस्तुएं होती हैं, जो नेगेटिव ऊर्जा फैलाती हैं। कई बार इस तरह की नकारात्मक ऊर्जा के कारण भी धन आगमन के योग नहीं बन पाते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, कई बार धन आगमन के योग बनने के बाद भी घर में धन नहीं टिक पाता है। कहते हैं कि इसके पीछे का कारण घर में मौजूद कुछ वस्तुएं भी हो सकती हैं। ऐसे में जरूरी है कि धन प्राप्ति और संचय में रोक लगाने वाली वस्तुओं को घर से निकाला जाए।

1. बंद घड़ियां- वास्तु शास्त्र के अनुसारस, घर में बंद घड़ियां लगाना अशुभ होता है। कहते हैं जिस घर में रुकी हुई घड़ी होती है, वहां नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। इस नेगेटिव एनर्जी के कारण ही धन प्राप्ति योग और धन संचय योग नहीं बन पाते हैं। ऐसे में घर में बंद पड़ी घड़ियों को निकाल देना ही उत्तम माना गया है। अगर आप इन घड़ियों को रखना चाहते हैं, तो इन्हें रिपेयर कराना चाहिए।

2. टूटी चप्पलें- घर में मौजूद टूटी चप्पलें भी धन आगमन के योग को नष्ट करती हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर के अन्य सदस्यों के अलावा खास तौर पर घर के मुखिया की चप्पलें कहीं से भी टूटी नहीं होनी चाहिए। कहते हैं कि घर में टूटी चप्पलें होने से दरिद्रता आती है। ऐसे में वास्तु शास्त्र के अनुसार, टूटी चप्पलों को फौरन घर से बाहर कर देना चाहिए।

3. फटा पायदान-  ऐसी मान्यता है कि घर का पायदान फटा होने से घर में मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, कहते हैं कि घर में आने-जाने वाले लोग घर के फटे पायदान पर पांव रखते हैं तो इससे दरिद्रता आती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर के फटे पायदान को हटा देना चाहिए।

4. लकड़ियों का ढेर- आमतौर पर लोग घर के एक कोने में लकड़ियों का ढेर लगा लेते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, लकड़ियों का ढेर घर में शुभ नहीं माना गया है। कहते हैं कि ऐसा करने से अशुभता आती है और बेवजह धन-खर्च होता है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।) 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular