Friday, May 24, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाBCC News 24: कोरबा- SECL के 31 भूविस्थापितों को मिलेगी नौकरी.. कोरबा...

BCC News 24: कोरबा- SECL के 31 भूविस्थापितों को मिलेगी नौकरी.. कोरबा के कुसमुंडा एरिया में नियुक्ति देने CMD ने दी स्वीकृति, 100 परिवारों को मिलेगा 10-10 लाख मुआवजा

बिलासपुर/कोरबा (BCC NEWS 24): SECL मुख्यालय बिलासपुर के CMD ने कोरबा के कुसमुंडा क्षेत्र के 31 भू-विस्थापितों की भर्ती के लिए स्वीकृति दे दी है। इसके साथ ही उन्होंने कोयला खदान एरिया के 100 से ज्यादा भू-विस्थापित परिवारों को 10-10 लाख मुआवजा राशि देने का भी आदेश दिया है। कुसमुंडा एरिया के 7 पुराने और 24 नए केस लंबित थे, जिसका निराकरण करते हुए उन्होंने कुसमुंडा एरिया में नियुक्ति देने का आदेश दिया है।

SECL कोरबा के भू-विस्थापितों की ओर से पिछले कई साल से नौकरी देने की मांग को लेकर आंदोलन चल रहा था। लेकिन, उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जा रहा था। हालांकि, SECL प्रबंधन ने कोयला खदान एरिया में आने वाले प्रभावितों को तय मापदंडों के अनुसार नौकरी देने का दावा किया था।

31 लंबित प्रकरणों का किया निराकरण
भूमि अधिग्रहण के बाद SECL के कुसमुंडा क्षेत्र के 31 प्रकरण लंबित थे, जिसमें भूमि अधिग्रहण के बाद से विस्थापित लोगों को नौकरी नहीं मिली थी। इसमें 7 पुराने और 24 नए प्रकरण शामिल थे। SECL के CMD डा. प्रेमसागर मिश्रा ने इन सभी प्रकरणों का निराकरण करते हुए नौकरी देने के लिए स्वीकृति दे दी है।

विस्थापित परिवारों को मिलेगा 10-10 लाख मुआवजा
SECL की ओर से राज्य शासन के सहयोग से अर्जित ग्राम जटराज, सोनपुर, पाली, पड़निया, रिसदी एवं खोड़री से विस्थापित होने वाले प्रभावित परिवारों एवं परिसम्पतियों का सर्वेक्षण का काम शुरू हो गया है। पाली ग्राम में करीब 100 से ज्यादा परिवारों का सर्वे पूरा हो चुका है और उनके मुआवजा निर्धारण करने का काम भी चल रहा है। इसी तरह पड़निया, रिसदी एवं सोनपुरी की भूमि मुआवजा निर्धारण की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। विस्थापितों के विस्थापन लाभ के लिए SECL प्रबंधन की ओर से दी जाने वाली राशि में हाल ही में बढ़ोतरी कर विस्थापन के बदले 10 लाख रूपए प्रति परिवार किया गया है। इसके साथ ही अन्य लाभों में वृद्धि की गई है, जिससे हितग्राहियों को पूरा लाभ मिल सकेगा। विस्थापितों के बसाहट के लिए शासकीय भूमि आबंटन के लिए आवेदन राज्य शासन को प्रस्तुत किया गया है, जिसकी स्वीकृति मिलने के बाद विस्थापन के लिए सर्वसुविधायुक्त कॉलोनी का निर्माण किया जाएगा।

नियमों में बदलाव का मिलेगा लाभ
CMD डॉ. प्रेम सागर मिश्रा ने स्वतंत्रता दिवस के अपने संदेश में यह विशेष जोर दिया था कि SECL प्रबंधन भूविस्थापितों के रोजगार की दिशा में आगे बढ़कर काम कर रहा है। प्रबंधन चाहता है कि सभी के साथ न्याय सुनिश्चित हो और सबको उनका हक मिले। SECL बोर्ड ने भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया एवं दस्तावेजों से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बदलाव स्वीकृत किए हैं, जिससे प्रबंधन की परियोजनाएं अब और तेजी के साथ भूमि अधिग्रहण का काम कर सकेगा। SECL प्रबंधन गांव-गांव जाकर यह पहल कर रहा है कि राज्य शासन के समन्वय से ग्रामवासियों के नामांकन एवं अन्य दस्तावेजों से संबंधित समस्याओं का त्वरित निराकरण हो सके, जिससे उनके रोजगार, मुआवजा संबंधित प्रकरणों का तेजी से निराकरण हो सके।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular