Tuesday, June 18, 2024
Homeकवर्धा38 दिन में सुलझी अंधे कत्ल की गुत्थी: पत्नी से मारपीट करता...

38 दिन में सुलझी अंधे कत्ल की गुत्थी: पत्नी से मारपीट करता था युवक, गुस्से में साले और ससुर ने डंडे से पीटकर मार डाला था…

छत्तीसगढ़ के कवर्धा में पत्नी से मारपीट करने पर युवक की हत्या मामले में पुलिस ने पिता-पुत्र को गिरफ्तार किया है।

  • कुंडा क्षेत्र के ग्राम कोलेगांव में नाले में 9 फरवरी को मिला था युवक का शव, हाथ-पैर बंधे थे
  • बिलासपुर से अपने ससुराल कवर्धा आया था पत्नी को ले जाने के लिए, दोनों आरोपी गिरफ्तार

कवर्धा/ छत्तीसगढ़ के कवर्धा में एक युवक की उसके साले और ससुर ने डंडे से पीटकर हत्या कर दी थी। युवक अपनी पत्नी से अक्सर मारपीट करता था, जिसके चलते वह मायके चली गइ थी। युवक उसे लेने के लिए पहुंचा तो फिर मारपीट की। यह देख गुस्से में उसे मार दिया और शव को हाथ-पैर बांधकर एक नाले में फेंक दिया। कुंडा थाना पुलिस ने 38 दिनों बाद इस अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझाते हुए दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

कोलगांव के पास शिकारी डेरा के पीछे नाले में 9 फरवरी को एक युवक का शव नाले में मिला था। उसके हाथ रस्सी और पैर गमछे से बंधे थे। बाद में युवक की शिनाख्त बिलासपुर के ग्राम खटोला, तखतपुर निवासी बलरामपुरी गोस्वामी (45) पिता बसुदेवपुरी गोस्वामी के रूप में हुई। शव की शिनाख्त के बाद अफसरों ने पुलिस की टीम गठित की और जांच शुरू की। इस बीच पता चला कि युवक का ससुराल कवर्धा में है।

साक्ष्य जुटाकर पुलिस ने करीब एक मार बाद आरोपियों से फिर पूछताछ की

इस पर पुलिस ने संदेह के आधार पर बलरामपुरी के साले पुरुषोत्तम और ससुर परमेश्वर गिरी गोस्वामी से पूछताछ की। इस पर पिता-पुत्र दोनों पुलिस को गुमराह करते रहे। पुलिस ने तकनीकी आधार पर उनकी जानकारी एकत्र की। पर्याप्त साक्ष्य और जानकारी मिलने पर करीब एक माह बाद पुलिस ने फिर पुरुषोत्तम और उसके पिता से पूछताछ की। इस बार दोनों ने बलरामपुरी के हत्या करने और उसके शव को ठिकाने लगाने की बात स्वीकार कर ली।

मारपीट से तंग आकर 6 माह से मायके में रह रही थी पत्नी, साले की भी अंगुली काट दी थी
पूछताछ में पुरुषोत्तम ने बताया कि बलरामपुरी गोस्वामी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। उसकी बहन मीरा से मारपीट करता था। परेशान होकर करीब 6 माह पहले मीरा मायके सेमरकोना आ गई। बलरामपुरी बार-बार आता और बहन को ले जाने के नाम पर झगड़ा करता। उसने एक बार पुरुषोत्तम की अंगुली भी काट दी। घटना वाले दिन भी बलरामपुरी आया और विवाद करने लगा। यह देख पिता-पुत्र ने गुस्से में उस पर डंडे से वार कर हत्या कर दी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular