Thursday, June 20, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: भिलाई में कांग्रेस को एक और झटका... पूर्व सभापति के बाद...

CG: भिलाई में कांग्रेस को एक और झटका… पूर्व सभापति के बाद पूर्व सैनिक राजेश ने दिया पार्टी से इस्तीफा, टिकट की दावेदारी कर रहे थे

भिलाई: एक तरफ जहां विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ी खींचतान चल रही है, वहीं दूसरी तरफ सियासी जिले भिलाई में कांग्रेस को एक के बाद एक बड़े झटके लग रहे हैं। पूर्व सभापति और वरिष्ठ कांग्रेस नेता राजेंद्र अरोड़ा के बाद अब कांग्रेस नेता व पूर्व सैनिक राजेश चौधरी ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है।

राजेश चौधरी ने सेना से सेवा समाप्ति के बाद कांग्रेस पार्टी ज्वाइन किया था। इसके बाद छत्तीसगढ़ एक्स आर्मी फाउंडेशन के प्रदेश सदस्य और एक्स आर्मी पब्लिक वेलफेयर के जिला उपाध्यक्ष बने। सैनिक संघ के कहने पर इन्होंने वैशाली नगर से विधानसभा का टिकट भी मांगा था।

विधायक देवेंद्र यादव के काफी करीबी माने जाते हैं राजेश चौधरी।

विधायक देवेंद्र यादव के काफी करीबी माने जाते हैं राजेश चौधरी।

पूर्व सैनिक राजेश चौधरी का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया, इसके बाद भी पार्टी के लिए काम कर रहे थे, लेकिन उन्हें पार्टी में वो सम्मान नहीं मिला, जो एक पूर्व सैनिक को मिलना था। संघ के प्रमुख के कहने पर उन्होंने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। हालांकि राजेश ने अभी यह खुलासा नहीं किया है कि कांग्रेस छोड़ने के बाद वो किस पार्टी का दामन थामेंगे।

पूर्व सैनिकों के समर्थन से राजनीति में आए थे राजेश।

पूर्व सैनिकों के समर्थन से राजनीति में आए थे राजेश।

छत्तीसगढ़ निषाद समाज के संरक्षक हैं राजेश चौधरी

राजेश चौधरी किसान कांग्रेस के जिला अध्यक्ष होने के साथ ही वार्ड 34 के पार्षद हैं। वो छत्तीसगढ़ निषाद, मल्लाह, केवट समाज संघ के संरक्षक और मछली मार्केट पॉवर हाउस के सचिव भी हैं। पूर्व सैनिक राजेश चौधरी का इस्तीफ़ा पार्टी के लिए बड़ी छति बताई जा रही है।

राजेश भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव के करीबी थे। उन्हीं के कहने पर उन्होंने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर राजनीति में प्रवेश किया था।

राजेश चौधरी द्वारा दिया गया इस्तीफा पत्र।

राजेश चौधरी द्वारा दिया गया इस्तीफा पत्र।

इस्तीफे में राजेश ने लिखा दिल का दर्द

अपने इस्तीफा पत्र में राजेश चौधरी ने लिखा कि “मेरे जैसे निष्ठावान कार्यकर्ता को वरीयता नहीं दिए जाने से मेरे स्वाभिमान को ठेस पहुंची है। मैं उन सभी के प्रति आभार जताता हूं, जिन्होंने पार्टी की भूमिका में मेरा समर्थन किया है। मैं उन सभी पूर्व सैनिक संगठन का भी आभार जताता हूं, जो मेरे लिए खड़े रहे।

मैं एक पूर्व सैनिक हूं और सैनिक कभी भी स्वाभिमान से समझौता नहीं करता, इसलिए मैंने भी नहीं किया। भारी मन से मैं कांग्रेस पार्टी के साथ अपने जुड़ाव को खत्म करता हूं। कांग्रेस की सदस्यता समेत सभी पदों से इस्तीफा देता हूं।“

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular