Tuesday, June 18, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाChhattisgarh Gold Rate : रायपुर में सोने-चांदी के दाम ऑल टाइम हाई...

Chhattisgarh Gold Rate : रायपुर में सोने-चांदी के दाम ऑल टाइम हाई पर, बुधवार को गोल्ड का दाम 76 हजार 100 रुपए पहुंचा, चांदी का भाव 83200 रुपए प्रति किलो

रायपुर: सोने के भाव में लगातार इजाफा हो रहा है। सोन आज 17 अप्रैल को ऑल टाइम हाई बना हुआ है । रायपुर सर्राफा एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष हरख मालू ने बताया कि मंगलवार को 24 कैरेट सोने का भाव 75 हजार 500 रुपए प्रति दस ग्राम था। जो बुधवार को बढ़कर 76 हजार 100 रुपए (सोने का भाव GST के साथ) पहुंच गया है। वही चांदी का भाव 83 हजार 200 रुपए प्रति किलो रहा ।

इजराइल-ईरान तनाव 1 अप्रैल को शुरू हुआ था। तब सोने की रायपुर में सोना की कीमत बढ़ते जा रही है। 1 अप्रैल को रायपुर में सोने का भाव 71 हजार 250 पर थी। वहीं अब यानी 17 अप्रैल को इसकी कीमत 76 हजार 100 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई है। यानी सिर्फ 17 दिनों में ही सोना 4850 रुपए महंगा हो चुका है। इजराइल-ईरान तनाव के चलते सोने में आगे भी तेजी देखने को मिल सकती है।

दाम बढ़े लेकन खरीरदारी जारी

सोने का भाव अपने रिकार्ड स्तर पर है लेकिन शादी ब्याह के सीजन में सोने चांदी के दाम बढ़ने के बावजूद भी लोग अपने बजट के अनुसार सोना खरीद रहे है। हरख मालू ने बताया कि शादी में किसी का सोने खरीदने का बजट 1 लाख रुपए है तो वह उतने बजट में सोना लेकर एडजस्ट कर रहे है। बाजार में ग्राहक का आना जारी है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में अस्थिरता

रायपुर सर्राफा एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष हरख मालू ने बताया कि इंटरनेशनल मार्केट में अनिश्चित का माहौल है। अमेरिकी फेडरल बैंक के द्वारा जो पिछली बैठक हुई है, रन आगामी तिमाही में 25 पैसे ब्याज दर कम करने की घोषणा की है। उसके कारण भी सराफा बाजार में बार-बार उतार-चढ़ाव दिख रहे हैं। आने वाले दिनों में सोने और चांदी के दाम में लगातार बढ़ोतरी होगी। इसका कारण है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में अस्थिरता है।

साढ़े 3 महीने में 9,950 रुपए बढ़े सोने के दाम

इस साल अब तक सिर्फ 3 महीने में ही सोने के दाम 9,950 रुपए बढ़ चुके हैं। 1 जनवरी को सोना 63,352 रुपए पर था। ये 63,352 रुपए प्रति ग्राम से 73,302 रुपए पर पहुंच गया। वहीं चांदी भी 73,705 रुपए प्रति किलोग्राम से 83,213 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई।

युद्ध या मंदी जैसी स्थिति में सोने-चांदी की कीमतें क्यों बढ़ जाती हैं

कोई भी जंग जियोपॉलिटिकल इनवैंशन खराब कर सकती है। ग्लोबल सप्लाई चेन बाधित कर सकती है, महंगाई बढ़ा सकती है और फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट में लोगों के भरोसे को कम कर सकती है। ऐसे में कई लोग और यहां तक ​​कि सरकारें भी पोर्टफोलियो में गोल्ड बढ़ाते हैं। डिमांड बढ़ने से दामों में तेजी आती है ।

बीते सालों में हुई जंग और मंदी में सोने-चांदी का क्या ट्रेंड रहा है?

जंग के दौरान सोने की कीमतों में हमेशा उछाल देखा गया है। 1990-91 के दौरान गल्फ वॉर के दौरान सोने की कीमतों में उछाल आया था, लेकिन यह शॉर्ट टर्म था। इसी तरह 2003 में इराक युद्ध के दौरान सोने की कीमतों में तेजी आई थी।

  • कोरोना महामारी के कारण भारत समेत अन्य देशों में मार्च 2020 में लॉकडाउन लगा था। तब 10 ग्राम सोने के दाम 41,000 रुपए के करीब थे। अगस्त तक दाम बढ़कर 55,000 के करीब तक पहुंच गए। हालांकि, बाद में इसमें गिरावट आई थी और दाम 50,000 से नीचे आ गए थे।
  • रूस-यूक्रेन जंग के समय भी सोने में तेजी आई। 24 फरवरी 2022 को रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू हुआ था। 7 मार्च 2022 को सोने की कीमतों में लगभग ₹1000/10 ग्राम की बढ़ोतरी हुई। 22 कैरेट सोने की कीमत ₹49,400/10 ग्राम और 24 कैरेट सोने की कीमत ₹53,890/10 ग्राम हो गई थी।
  • इजराइल-हमास जंग 7 अक्टूबर 2023 को शुरू हुई थी। तब सोने की कीमत 57,000 के करीब थी। 1 नवंबर तक कीमत बढ़कर 61,000 के करीब पहुंच गई। वहीं 1 जनवरी को कीमत 63,000 और अब 10 ग्राम सोने की कीमत 73,300 के पार पहुंच गई है।
Muritram Kashyap
Muritram Kashyap
(Bureau Chief, Korba)
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular