Saturday, June 22, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबादिल्ली CM के पर्सनल सेक्रेटरी के घर ED का छापा, केजरीवाल का...

दिल्ली CM के पर्सनल सेक्रेटरी के घर ED का छापा, केजरीवाल का दावा- BJP ने कहा हमारे साथ आ जाओ, हम छोड़ देंगे

नई दिल्ली: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के पर्सनल सेक्रेटरी बिभव कुमार और AAP सांसद एनडी गुप्ता के घर पर मंगलवार (6 फरवरी) को ED की रेड हुई है। दिल्ली में AAP नेताओं और उनसे जुड़े लोगों के करीब 10 ठिकानों पर जांच एजेंसी तलाशी ले रही है। बताया जा रहा है कि ED की यह कार्रवाई दिल्ली जल बोर्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में हो रही है।

ED की रेड के बीच दिल्ली की मंत्री और AAP नेता आतिशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा- भाजपा हमें दबाना चाहती है, ​​लेकिन हम डरेंगे नहीं। घोटाला हमने नहीं किया। असल में ED की जांच में ही घोटाला है। ED ने शराब नीति मामले में गवाहों के बयानों में फर्जीवाड़ा किया।

आतिशी ने दावा किया कि शराब घोटाले में ED ने इन्वेस्टिगेशन के बाद सारे ऑडियो फुटेज डिलीट कर दिए। जिनसे भी बयान लिए गए, उन्होंने कहा कि उनसे दबाव में बयान दिए। आतिशी ने पूछा कि ED ऑडियो डिलीट करके किसे बचाना चाहती है। आपने देश-कोर्ट के सामने जितने सवाल-जवाब किए हैं, उनमें से कितने के ऑडियो आपके पास मौजूद हैं।

आतिशी के आरोप- गवाहों को धमकाकर बयान लिए

आतिशी ने कहा- शराब नीति मामले में ED का सारा केस कई आरोपियों को सरकारी गवाह बनाने पर है। ED ने लोगों पर दबाव बनाकर बयान लिए। एक गवाह ने कहा कि इतनी जोर से थप्पड़ मारा कि कनपटी फट गई। एक विटनेस से कहा कि अगर AAP नेताओं के खिलाफ बयान नहीं दिया तो देखते हैं कि तुम्हारी बेटी कॉलेज कैसे जाती है।

आतिशी ने पूछा कि ये कैसे पता चलेगा कि ED ने कोर्ट में जो स्टेटमेंट पेश किए, वो सही है या डरा-धमकाकर लिए गए। सुप्रीम कोर्ट के 2020 के ऑर्डर के तहत किसी भी एजेंसी को इन्वेस्टिगेशन कैमरे पर करना होता है। ये बात ED पर भी लागू होती है।

AAP नेता के कहा- विटनेस ने हमें बताया कि हमने जो बयान दिए थे और जो बात कागज पर लिखी गई, वो अलग थी। ED ने बाद में गवाहों के फुटेज डिलीट कर दिए। हर विटनेस का अधिकार है कि उन्हें सीसीटीवी फुटेज (ऑडियो-वीडियो समेत) मिले। सुप्रीम कोर्ट ने इसी बात को लेकर आदेश दिया था।

दिल्ली जल बोर्ड से जुड़ा मनी लॉन्ड्रिंग मामला समझिए…

  • CBI ने दिल्ली जल बोर्ड (DJB) की टेंडर प्रक्रिया में अनियमितता बरतने को लेकर FIR दर्ज की थी। CBI की FIR में आरोप लगाया गया कि दिल्ली जल बोर्ड के तत्कालीन चीफ इंजीनियर जगदीश कुमार अरोड़ा ने NKG इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड को करीब 38 करोड़ रुपए में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फ्लो मीटर की इंस्टॉलेशन, सप्लाई और टेस्टिंग का टेंडर इशू किया था।
  • CBI के FIR को आधार बनाकर ED ने मामले की जांच शुरू की। इस दौरान पता चला कि NKG इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड इस काम के लिए टेक्निकल एलिजिबिलिटी को पूरा नहीं करती थी। NKG इंफ्रास्ट्रक्चर ने फर्डी डॉक्यूमेंट्स बनाकर टेंडर हासिल की। जगदीश कुमार अरोड़ा को इसकी जानकारी थी।
  • जुलाई 2023 में ED ने दिल्ली-NCR, केरल और तमिलनाडु में दिल्ली जलबोर्ड के अधिकारी और कुछ निजी संस्थाओं के अधिकारियों के 16 ठिकानों पर छापेमारी की। ED ने 24 जुलाई 2023 और 17 नवंबर 2023 को सर्च ऑपरेशन चलाया, जिसमें कई अहम दस्तावेज और सबूत जब्त किए गए।
  • ED की जांच में सामने आया कि टेंडर मिलने के बाद NKG इंफ्रास्ट्रक्चर ने अनिल कुमार अग्रवाल की कंपनी इंटीग्रल स्क्रूज लिमिटेड को भी भागीदार बनाया। इसके बदले में अनिल कुमार अग्रवाल ने जगदीश कुमार अरोड़ा को कैश और बैंक खातों में लगभग 3 करोड़ रुपए दिए। कुछ कैशजगदीश कुमार अरोड़ा के एक करीबी को भी मिला।
  • मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों के तहत ED ने 31 जनवरी 2024 को जगदीश अरोड़ा और अनिल अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया। 1 जनवरी जगदीश कुमार अरोड़ा और अनिल कुमार अग्रवाल को स्पेशल कोर्ट के सामने पेश किया गया। कोर्ट ने दोनों को 5 फरवरी तक ED की हिरासत में भेजा था।

केजरीवाल का दावा- BJP ने कहा हमारे साथ आ जाओ, हम छोड़ देंगे

केजरीवाल ने 4 फरवरी को दावा किया कि भाजपा ने उन्हें हाथ मिलाने का ऑफर दिया है। केजरीवाल ने रोहिणी में एक स्कूल के शिलान्यास कार्यक्रम में कहा- ये कहते हैं कि बीजेपी में आ जाओ, हम छोड़ देंगे। मैंने कहा, बिल्कुल नहीं आऊंगा। कतई नहीं आऊंगा। क्यों आ जाएं बीजेपी में।

केजरीवाल ने कहा- भाजपा में चले जाओ तो सारे खून माफ। हमने कौन सा गलत काम किया। स्कूल, अस्पताल, सड़कें ही तो बनवा रहे हैं, पानी का ही तो इंतजाम कर रहे हैं, सीवर ही तो ठीक करा रहे हैं। इन्हें जो साजिश करनी है, कर लें। मैं भी इनके खिलाफ डटा हूं, मैं भी नहीं छोड़ने वाला।

ED का केजरीवाल को पांचवां समन, लेकिन पेश नहीं हुए
अरविंद केजरीवाल शराब नीति मामले में शुक्रवार (2 फरवरी) को प्रवर्तन निदेशालय (ED) के सामने पांचवें समन पर भी पेश नहीं हुए थे। शराब घोटाला मामले में ED केजरीवाल को 17 जनवरी, 3 जनवरी, 21 दिसंबर और 2 नवंबर को 4 समन भेज चुकी है। केजरीवाल अब तक एक बार भी पेश नहीं हुए। इसी केस में दिल्ली के पूर्व डिप्टी CM मनीष सिसोदिया और AAP सांसद संजय सिंह जेल में हैं।

CBI ने अप्रैल में केजरीवाल से पूछताछ की थी

16 अप्रैल को अरविंद केजरीवाल पूछताछ के लिए CBI दफ्तर पहुंचे थे।

16 अप्रैल को अरविंद केजरीवाल पूछताछ के लिए CBI दफ्तर पहुंचे थे।

पिछले साल अप्रैल में शराब नीति केस में CM केजरीवाल से CBI ने अपने ऑफिस में करीब साढ़े 9 घंटे तक पूछताछ की थी। इस दौरान लगभग 56 सवाल पूछे गए। केजरीवाल सुबह 11 बजकर 10 मिनट पर एजेंसी के ऑफिस पहुंचे थे और रात 8:30 बजे बाहर आए।

केजरीवाल ने कहा था- मैंने CBI के सभी सवालों के जवाब दिए। हमारे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है। AAP कट्टर ईमानदार पार्टी है। हम मर-मिट जाएंगे, पर कभी अपनी ईमानदारी के साथ समझौता नहीं करेंगे। वे AAP को खत्म करना चाहते हैं, लेकिन देश की जनता हमारे साथ है।

Muritram Kashyap
Muritram Kashyap
(Bureau Chief, Korba)
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular