Saturday, May 18, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाछत्तीसगढ़: दुर्गा विसर्जन के लिए गया डिप्टी मैनेजर नदी में बहा, मौत.....

छत्तीसगढ़: दुर्गा विसर्जन के लिए गया डिप्टी मैनेजर नदी में बहा, मौत.. गोताखोरों ने 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद प्रकाश इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अधिकारी का शव बाहर निकाला; तेज बहाव में फिसल गया था पैर, इलेक्ट्रिकल विभाग में था पदस्थ..

जांजगीर चांपा: जिले के प्रकाश इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड (पीआईएल) के अधिकारी की दुर्गा विसर्जन के दौरान डूबने से मौत हो गई। मामला जांजगीर थाना क्षेत्र का है। बुधवार को हसदेव नदी में इंडस्ट्रीज के कर्मचारी दुर्गा मां की प्रतिमा के विसर्जन के लिए गए थे, तभी इलेक्ट्रिकल विभाग में पदस्थ संजय बोंदरे (57 वर्ष) का पैर फिसल गया और वो नदी में डूबने लगा। बाकी कर्मचारियों ने उसे बचाने की कोशिश की, लेकिन पानी के तेज बहाव के कारण वे उस तक नहीं पहुंच सके।

इस बीच संजय बोंदरे पानी की गहराई में चला गया और उसकी डूबकर मौत हो गई। पीआईएल के कर्मचारियों ने तुरंत घटना की सूचना जांजगीर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर गोताखोरों को नदी में उतारा। करीब 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद शव को ढूंढकर निकाला जा सका। प्रकाश इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड कोटाडाबरी नगर पालिका चांपा में आता है। कर्मचारी के शव का पोस्टमॉर्टम जिला अस्पताल में गुरुवार को होगा।

हसदेव नदी में हुआ था हादसा।

हसदेव नदी में हुआ था हादसा।

जांजगीर थाना प्रभारी उमे साहू ने बताया कि मृतक संजय बोंदरे महाराष्ट्र के नागपुर के रहने वाले थे। वो पीआईएल चांपा में इलेक्ट्रिकल विभाग में डिप्टी इलेक्ट्रीशियन मैनेजर थे। उनकी पत्नी अरुणा पिछले ढाई महीने से अपने बेटे प्रतीक बोंदरे के पास हिमाचल प्रदेश में रह रही थी। कुछ दिनों बाद वो वापस लौटने वाली थी। संजय बोंदरे का इकलौता बेटा प्रतीक (27 वर्ष) हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में हाइड्रो पॉवर प्लांट में इंजीनियर है। बेटे प्रतीक की अभी शादी नहीं हुई है। वो हिमाचल में अकेला रहता है। वहीं संजय बोंदरे अपनी पत्नी के साथ PIL परिसर में बने क्वार्टर में ही रहते थे। वे PIL में 1994 से इलेक्ट्रीशियन के पद पर काम कर रहे थे। 2019 में उनका प्रमोशन डिप्टी इलेक्ट्रीशियन मैनेजर के पद पर हुआ था। वे 28 सालों से कंपनी के कर्मचारी थे।

दुर्गा विसर्जन के दौरान हसदेव नदी में डूबकर पीआईएल अधिकारी की मौत।

दुर्गा विसर्जन के दौरान हसदेव नदी में डूबकर पीआईएल अधिकारी की मौत।

जांच अधिकारी ने बताया कि पीआईएल में दुर्गा प्रतिमा विराजित की गई थी। इसी का विसर्जन करने वहां के अधिकारी-कर्मचारी हसदेव नदी में गए हुए थे, जहां ये हादसा हुआ। फिलहाल मृत कर्मचारी के परिजनों को हादसे की सूचना दे दी गई है। उनके जांजगीर पहुंचने के बाद शव का पोस्टमॉर्टम कराकर अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया जाएगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular