Monday, July 15, 2024
Homeछत्तीसगढ़जशपुरनगर: जशपुर के बाजारडांड़ में निःशुल्क जिला स्तरीय आयुष स्वास्थ्य मेला का...

जशपुरनगर: जशपुर के बाजारडांड़ में निःशुल्क जिला स्तरीय आयुष स्वास्थ्य मेला का किया गया आयोजन…

  • शिविर में आयुर्वेद पद्धति से 365 एवं होम्योपैथी पद्धति से 162 मरीजों की की गई चिकित्सा उपाचर
    हाट बाजार एवं सियान जतन क्लीनिक से 135 रोगी हुए हैं लाभान्वित

जशपुरनगर: जिला में आयुष विभाग के अंतर्गत आयुष पॉलीक्लीनिक, आयुषविंग, स्पेशलाइज्ड थेरेपी सेंटर, आयुर्वेद, होम्योपैथी औषधालय, सीएचसी,पीएचसी में आयुर्वेद, होम्योपैथी, यूनानी संस्था संचालित है। जिसके माध्यम से पंचकर्म क्रिया के द्वारा रोगियों को ईलाज करके निःशुल्क औषधि वितरण किया जा रहा है।

आयुष विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में विगत सप्ताह में कुल 3325 रोगियों को औषधि वितरण कर निःशुल्क उपचार किया गया साथ ही पंचकर्म क्रिया नाड़ी स्वेद, सर्वांग स्वेद, नस्य एवं शिरो धारा के द्वारा 85 रोगियों की चिकित्सा की गई। विभाग द्वारा मुख्य रूप से जीर्ण वात व्याधि, ज्वर, संधिवात, त्वक विकार, पाददाह, गृध्रासी, जीर्ण श्वास रोग, दौर्बल्यता, जीर्ण काश रोग एवं उदर रोग की सफलता पूर्वक चिकित्सा की गई। साथ ही हाट बाजार एवं सियान जतन क्लीनिक के माध्यम से 135 रोगियों की चिकित्सा की गई।

उल्लेखनीय है कि जिले में कुल 03 आयुष हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर संचालित है। जहां संस्थाओं में 122 हितग्राहियों को योगाभ्यास कराया गया है। साथ ही 45 हितग्राहियों को काढ़ा वितरण कराया गया। इसके साथ ही सूचना,  शिक्षा एवं संचार के माध्यम से पाम्पलेट द्वारा भी लोगों को अधिक संख्या में आयुष चिकित्सा पद्धति द्वारा उपचार हेतु सफलता पूर्वक जागरूक किया जा रहा है।

इसी कड़ी में विगत् दिवस माह जशपुर विकासखण्ड के बाजारडांड़ में निःशुल्क जिला स्तरीय आयुष स्वास्थ्य मेला का आयोजन किया गया। जिसमें आयुर्वेद एवं होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से रोगियों का निःशुल्क औषधि वितरण कर ईलाज किया गया। जिला स्तरीय शिविर प्रभारी डॉ. दीपक एक्का विशेषज्ञ चिकित्सा के मार्गदर्शन में किया गया। शिविर में मुख्य रूप से जीर्ण वात व्याधि, त्वक रोग, स्त्री रोग, शिरो रोग, मनो रोग, गठिया वात, हांथ पैर का सूजन, जोड़ों में दर्द, कमर का दर्द, बाल रोग, ज्वर, सर्दी जुकाम, अतिसार, नेत्र रोग, पांडू रोग, हृदय रोग, मधुमेह, अर्श रोग, स्थौल्य रोग आदि रोगों का विशेष रूप से चिकित्सा की गई। शिविर में आयुर्वेद पद्धति से कुल 365 मरीज एवं होम्योपैथी पद्धति से कुल 162 मरीजों की चिकित्सा की गई। इस प्रकार कुल 527 मरीजों की चिकित्सा की गई एवं 48 रोगियों का रक्त परीक्षण किया गया। साथ ही जनसामान्य को आयुष विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में तथा आयुर्वेद औषधियों के बारे में जानकारी दी गई। शिविर में आयुष विभाग के आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉ. तेजवती सिंह, डॉ. कपिल श्रीवास्तव, डॉ. रंजित कुमार गुरू, होम्योपैथी चिकित्सा अधिकारी डॉ. अम्बिका नायक, डॉ. दिव्य शिखा, आयुर्वेद फार्मासिस्ट श्रीमती अंजना लकड़ा, श्री संध्या भास्कर, पंचकर्म सहायक श्री कृष्ण कुमार दिनकर, वार्ड बॉय श्री सुशील भगत, औषधालय सेवक श्री मनीष कुमार, श्रीमती इन्दु नन्दे और स्वच्छक श्री कुलदीप जगत उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular