Saturday, June 15, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाछत्तीसगढ़: लूट के लिए की सराफा व्यापारी की हत्या.. आरोपियों में पेशेवर...

छत्तीसगढ़: लूट के लिए की सराफा व्यापारी की हत्या.. आरोपियों में पेशेवर अपराधी और भाजपा सांसद का भतीजा भी शामिल

छत्तीसगढ़: दुर्ग पुलिस ने अमलेश्वर में सराफा व्यापारी की हत्या और लूट के आरोपियों न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इससे पहले पत्रकारों के सामने एसपी दुर्ग डॉ. अभिषेक पल्लव ने आरोपियों से पूछताछ की। एक हाथ कटे आरोपी सौरभ कुमार सिंह ने खुद को भाजपा सांसद का भतीजा बताया। उसने कहा कि उसके मौसा सुशील कुमार सिंह औरंगाबाद बिहार के सांसद है। वहीं मामले के मुख्य आरोपी और पहले भी दो मर्डर कर चुके आरोपी अभिषेक झा ने कहा कि वो लोग सिर्फ लूट के इरादे से वहां गए थे। सौरभ और अभय कुमार उर्फ बाबू ने शराब के नशे में गोली मार दी। मामले के मुख्य आरोपी अभिषेक झा ने बताया कि वह 22 अक्टूबर 2021 को रायपुर जेल से फरार हुआ था। वह यहां हत्या और लूट की वारदात को अंजाम दे चुका है। उसने बताया कि वो रायपुर और उसके आसपास के क्षेत्र के जानता था। कुछ महीने पहले ही सौरभ और अभय कुमार उर्फ बाबू से उसकी पहचान हुई थी। तीनों ने मिलकर लूट की घटना को अंजाम देने का प्लान बनाया। अभिषेक ने उन्हें बताया कि रायपुर के आसपास कुछ एरिया को वह अच्छे से जानता है और वहां लूट की घटना को अंजाम दे सकते हैं। इसके बाद उन लोगों ने रायपुर में मिलने का प्लान बताया। 18 अक्टूबर को अभिषेक अपनी दिल्ली पासिंग कार से रायपुर पहुंचा। उसके साथ उसका ड्राइवर आलोक कुमार भी था। यहां सौरभ और अभय कुमार झारखंड पासिंग बाइक से पहुंचे। चारों ने मिलकर कई दिन तक रेकी की।

हत्या व लूट के आरोपी और मामले में बेहतर काम करने वाली पुलिस की टीम एसपी दुर्ग डॉ. अभिषेक पल्लव के साथ

हत्या व लूट के आरोपी और मामले में बेहतर काम करने वाली पुलिस की टीम एसपी दुर्ग डॉ. अभिषेक पल्लव के साथ

रायपुर और आसपास के कई सराफा दुकानों को उन्होंने देखा, लेकिन वहां काफी भीड़ रहने से वह लोग अमलेश्वर आ गए। यहां तिरंगा चौक स्थित बजरंग काम्पलेक्स में सुरेंद्र सोनी की समृद्धि ज्वेलर्स काफी खाली दुकान दिखी। इसके बाद इन्होंने एक दिन इसकी रेकी। 20 अक्टूबर को दोपहर सौरभ कुमार और बाबू बाइक से सुरेंद्र सोनी की दुकान गए। वह लोग शराब के नशे में थे। उनका कहना है कि उन्होंने सुरेंद्र सोनी का सिर पटका तो वह चिल्लाया। इससे वह लोग घबरा गए और उसके ऊपर एक के बाद एक कई फायर कर दिए।

मामले का खुलासा करते हुए दुर्ग एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव

मामले का खुलासा करते हुए दुर्ग एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव

मामले में अभिषेक की पत्नी का नहीं है हाथ
ऐसा कहा जा रहा था कि आरोपी अभिषेक झा ने कुछ महीने पहले ही एक लड़की से शादी किया था। उसका हाथ भी इस मामले में बताया जा रहा था। एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि घटना के समय वह महिला बनारस में थी। उसका इस मामले में कोई भी संलिप्तता नहीं पाई गई है।

वह हथियार जिससे किया गया था फायर

वह हथियार जिससे किया गया था फायर

बिहार से मिले थे हथियार, कहा वहां हथियार मिलने आम बात
आरोपी अभिषेक झा ने बताया कि जिस देशी कट्टे से फायर किया गया वह उसी के थे। उसे बिहार में एक दोस्त ने दिया था। उसने बताया कि बिहार में आज भी इस तरह के हथियार मिलना आम बात है। जब्त कट्टे में एक कट्टा ऐसा था जिसे देखकर एसपी अभिषेक पल्लव ने भी कहा कि ये किसी पिस्टल से कम नहीं है। ऐसा लग रहा मानों किसी आर्म्स फैक्ट्री में उसे बनाया गया हो।
पूरी पुलिस टीम के लिए की गई ईनाम की घोषणा
एसपी दुर्ग ने बताया कि उक्त कार्यवाही में एन्टी क्राईम एवं सायबर यूनिट के निरीक्षक संतोष मिश्रा, सउनि शमित मिश्रा, पूर्ण बहादुर, आरक्षक शहबाज खान, विक्रांत यदु, कोमल राजपूत, आरपीएफ वाराणसी के निरीक्षक अंजुलता द्विवेदी, आरक्षक रमेष यादव का आरोपियों की घेराबंदी कर पकड़ने में विशेष योगदान रहा। तकनीकी साक्ष्य एकत्र एवं सीडीआर एनालिसिस करने में प्रधान आरक्षक एसीसीयू चन्द्रषेखर बंजीर का योगदान रहा। पूरे प्रकरण को सुलझाने में एसीसीयू एवं दुर्ग जिले के चुनिंदा पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों का उल्लेखनीय योगदान रहा। एसपी ने पूरी टीम को 10 हजार रुपए और आईजी बीएन मीणा की तरफ से भी ईनाम दिए जाने की घोषणा की है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular