Saturday, May 25, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाकोरबा: कलेक्टर संजीव झा की पहल पर पिछले पांच माह में 65...

कोरबा: कलेक्टर संजीव झा की पहल पर पिछले पांच माह में 65 भू-विस्थापितों को एसईसीएल ने दी नौकरी…

  • रोजगार के अन्य प्रक्रियाधीन और लंबित प्रकरणों का जल्द निराकरण के लिए एसईसीएल को दिए गए हैं निर्देश
  • प्रशासन के निर्देश पर एसईसीएल के कोरबा, कुसमुंडा,दीपका और गेवरा क्षेत्र के पात्र भू विस्थापितों को रोजगार उपलब्ध कराने की कार्यवाही जारी

कोरबा (BCC NEWS 24): कलेक्टर श्री संजीव झा के नेतृत्व में जिला प्रशासन एसईसीएल अंतर्गत खदान प्रभावित भू-विस्थापितों को रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में गंभीर है। कलेक्टर श्री झा ने एसईसीएल प्रबंधन को निर्देशित कर रोजगार के प्रकरणों का जल्द निराकरण कर पात्र भू-विस्थापितों को रोजगार उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इसी तारतम्य में जिला प्रशासन की पहल पर एसईसीएल के कोरबा क्षेत्र, कुसमुंडा क्षेत्र, दीपका क्षेत्र और गेवरा क्षेत्र ने रोजगार के लंबित प्रकरणों का निराकरण कर जून 2022 से अब तक 65 भू-विस्थापितों को नौकरी उपलब्ध कराने के लिए नियुक्ति पत्र जारी किया है। इसी तरह अन्य प्रकरणों पर भू-विस्थापितों को नौकरी दिलाने की दिशा में प्रक्रिया चल रही है।

अपर कलेक्टर श्री विजेंद्र पाटले ने बताया की एसईसीएल के जिले में संचालित विभिन्न क्षेत्रों के द्वारा भू विस्थापितों को दिए गए नौकरी के संबंध में जिला प्रशासन को जानकारी उपलब्ध कराई गई है। जिसके अनुसार एसईसीएल कोरबा एरिया अंतर्गत संचालित सराईपाली परियोजना के भू विस्थापितों को 18 प्रकरणों में नौकरी दी गई है, जबकि 34 प्रकरणों में नौकरी देने की प्रक्रिया चल रही है। इसी तरह कुसमुंडा क्षेत्र अंतर्गत रोजगार के लंबित नए प्रकरणों में 23 भू-विस्थापितों को नौकरी दी गई है, जबकि यहां प्रक्रियाधीन प्रकरणों की संख्या 57 है। कुसमुंडा परियोजना में ही रोजगार के पुराने प्रकरणों में 11भू विस्तापितो को नौकरी के लिए नियुक्ति पत्र जारी किया गया है । वही 21भूविस्थापितों को नौकरी देने की प्रक्रिया चल रही है।

एसईसीएल दीपका क्षेत्र अंतर्गत 4 प्रकरणों में भू-विस्थापितों को नियुक्ति पत्र जारी किया गया है। वही 23 प्रकरणों में भू विस्थापितों को नौकरी देने प्रक्रिया चल रही है। इसी प्रकार एसईसीएल गेवरा क्षेत्र ने प्रशासन को बताया है कि 9 भूविस्थापितों को नियुक्ति पत्र दिया गया है। जबकि 104 प्रकरणों में नौकरी देने की प्रक्रिया चल रही है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular