Thursday, April 18, 2024
Homeछत्तीसगढ़रायपुर: आयुष्मान भव अभियान के तहत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं हेल्थ एण्ड...

रायपुर: आयुष्मान भव अभियान के तहत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर्स में स्वास्थ्य मेलों का आयोजन…

  • रक्तदान शिविरों एवं अंगदान के लिए जागरूकता कार्यक्रमों का भी आयोजन
  • प्रदेशभर में अब तक 6770 स्वास्थ्य मेला और 174 रक्तदान शिविर हो चुके हैं आयोजित
  • 321 लोगों द्वारा अंगदान के लिए पंजीयन भी, 31 दिसम्बर तक चलेगा अभियान 

रायपुर: आयुष्मान भव अभियान के अंतर्गत राज्य के प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर्स में हर सप्ताह स्वास्थ्य मेलों का आयोजन किया जा रहा है। इनमें बड़ी संख्या में लोग पहुंचकर चिकित्सा परामर्श और उपचार ले रहे हैं। स्वास्थ्य मेलों में न सिर्फ चिकित्सा परामर्श एवं उपचार प्रदान किया जा रहा है, बल्कि लोगों को आयुष्मान कार्ड भी बनाकर दिया जा रहा है। साथ ही उन्हें अंगदान और रक्तदान करने के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। 

रक्तदान शिविरों एवं अंगदान के लिए जागरूकता कार्यक्रमों का भी आयोजन
प्रदेशभर में अब तक 6770 स्वास्थ्य मेला और 174 रक्तदान शिविर हो चुके हैं आयोजित
321 लोगों द्वारा अंगदान के लिए पंजीयन भी, 31 दिसम्बर तक चलेगा अभियान 
321 लोगों द्वारा अंगदान के लिए पंजीयन भी, 31 दिसम्बर तक चलेगा अभियान 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन संचालक श्री भोसकर विलास संदीपान ने बताया कि 13 सितम्बर से प्रारम्भ हुए आयुष्मान भव अभियान के अंतर्गत पूरे राज्य में अब तक कुल 6770 स्वास्थ्य मेलों का आयोजन किया जा चुका है। इनमें चार लाख 87 हजार से अधिक लोगों ने विभिन्न रोगों के लिए चिकित्सा परामर्श एवं उपचार प्राप्त किया है। इस दौरान 2310 लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाने के साथ ही 3973 हितग्राहियों की आभा आईडी भी जेनेरेट की गई है। अभियान के दौरान अब तक 321 लोगों ने स्वेच्छा से मृत्यु उपरांत अपना अंगदान करने के लिए नोट्टो (NOTTO) पोर्टल पर प्रतिज्ञा-पत्र भरकर पंजीयन करवाया है। 

श्री संदीपान ने बताया कि आयुष्मान भव अभियान के तहत पूरे राज्य में अब तक कुल 174 रक्तदान शिविर लगाकर 1171 यूनिट रक्त एकत्र किया गया है। उन्होंने बताया कि यह अभियान 31 दिसम्बर 2023 तक निरंतर चलता रहेगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संचालक श्री संदीपान ने लोगों से अपील की है कि वे अभियान के दौरान मिल रही सेवाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाकर शासन द्वारा स्वास्थ्य सुविधाओं को गांव के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के उद्देश्य को पूरा करने में सहयोग प्रदान करें।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular