Friday, April 19, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: 200 दिव्यांगों को मिला नया जीवन.. गुजरात के दिव्यांग बना रहे...

CG: 200 दिव्यांगों को मिला नया जीवन.. गुजरात के दिव्यांग बना रहे निःशुल्क कृत्रिम अंग, 5 दिवसीय शिविर का किया गया है आयोजन

छत्तीसगढ़: जगदलपुर के रोटरी क्लब में निःशुल्क प्रत्यारोपण कैंप का आयोजन किया गया है। यहां गुजरात से पहुंची टीम दिव्यांगों का कृत्रिम हाथ-पैर लगा रही है। अब तक बस्तर संभाग समेत धमतरी और अन्य जगहों के करीब 200 से ज्यादा दिव्यांगों को इसका लाभ मिल चुका है। रजिस्ट्रेशन के बाद सीधे दिव्यांगों के कृत्रिम हाथ पैर बनाकर लगाए जा रहे हैं। खास बात यह है कि, कृत्रिम हाथ-पैर बनाने वाले कारीगर भी दिव्यांग ही हैं।

दरअसल, रोटरी क्लब आफ जगदलपुर, रोटरी क्लब आफ जामनगर और हेल्पिंग हैंड चैरिटेबल जैन सोशल ग्रुप नवानगर जामनगर के मार्गदर्शन में निःशुल्क प्रत्यारोपण कैंप का आयोजन किया गया है। यह आयोजन जगदलपुर के रोटरी क्लब में 16 नवंबर को शुरू हुआ है। जो 20 नवंबर 2022 तक चलेगा। रोजाना सुबह 10 बजे से रात्रि 10 बजे तक कृत्रिम हाथ एवं प्रभा फुट कृत्रिम पैर अमेरिका में LN4 बने पेटेंटेड डिजाइन वाला प्रभा फुट लगाने का काम किया जा रहा है।

इन्हें कृत्रिम पैर लगाए गए।

इन्हें कृत्रिम पैर लगाए गए।

गुजरात के दिव्यांग बना रहे कृत्रिम अंग

गुजरात के जामनगर निवासी दो दिव्यांग पिछले 20 सालों से कृत्रिम अंग बना रहे हैं। यह दोनों अपने जैसे ही अन्य दिव्यांगों को विशेषज्ञों की देख रेख में निःशुल्क कृत्रिम अंग प्रदान कर उन्हें नया जीवन दे रहे हैं। जगदलपुर में आयोजित इस शिविर के माध्यम से अब तक करीब 200 दिव्यांगों को कृत्रिम अंग प्रदान किए गए हैं। कृत्रिम अंग लगने के बाद दिव्यांग भी बेहद खुश हैं।

200 से ज्यादा लोगों को मिला लाभ।

200 से ज्यादा लोगों को मिला लाभ।

दिव्यांगों में खुशी

धमतरी की रहने वाली सविता सिंह ने बताया कि, 13 साल पहले सड़क हादसे में उन्होंने अपना पैर खो दिया। जिसके बाद से बैसाखियों के सहारे चलती थी। लेकिन, अब कृत्रिम पैर लगाए गए हैं। उम्मीद है कि इससे अच्छे से चल पाऊंगी। इधर, कारीगर परमार दिलीप ने बताया कि, पिछले 20 सालों से यह काम कर रहा हूं। दिव्यांगों के चेहरे पर खुशी देखर खुद को अच्छा लगता है, खुशी होती है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular