Thursday, June 20, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: रायपुर में अक्टूबर में 86 बाइक चोरी... पुलिसकर्मियों की गाड़ियां भी...

CG: रायपुर में अक्टूबर में 86 बाइक चोरी… पुलिसकर्मियों की गाड़ियां भी पार, घर-दफ्तर और मॉल-गार्डन निशाने पर; कुछ मामले में 4 महीने बाद FIR दर्ज

रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में बाइक चोर गिरोह सक्रिय हैं। पुलिसकर्मियों की गाड़ी भी पार हो चुकी हैं। बावजूद इसके पुलिस चोरों पर नकेल कसने में नाकाम साबित हो रही है। घरों, दफ्तरों, मॉल, गार्डन समेत अन्य जगहों से अक्टूबर महीने में अब तक 86 बाइक चोरी हुई हैं। जब वाहन मालिक शिकायत लेकर थाने पहुंचते हैं, तो FIR दर्ज करने में 4 महीने तक का समय लग जाता है।

इस मामले में पुलिस प्रशासन का कहना है कि चोरी की बढ़ती घटनाओं को लेकर पुलिस अमला भी गंभीर है। इसके लिए क्राइम सेल की स्पेशल टीम का भी गठन किया गया है। जो इन गाड़ियों की चोरी की वारदातों के पैटर्न की जांच कर आरोपियों की खोजबीन कर रही है।

रायपुर शहर में चोर लगातार बाइक चोरी कर रहे हैं। (फाइल फोटो)

रायपुर शहर में चोर लगातार बाइक चोरी कर रहे हैं। (फाइल फोटो)

मौदहापारा और कोतवाली क्षेत्र में चोरों में कॉम्पिटिशन जैसे हालात

रायपुर के मौदहापारा और कोतवाली थाने के इलाके में चोरों के बीच कॉम्पिटिशन जैसे हालात हैं। मौदहापारा थाना क्षेत्र में अक्टूबर महीने में सर्वाधिक 11 बाइक चोरी हुई, तो वही कोतवाली थाना क्षेत्र में अक्टूबर से अब तक 8 बाइक चोरी की जा चुकी है।

BSF जवान के बाइक भी ले उड़े चोर

आम जनता के साथ ही बीएसएफ जवान की 3 नंबर की सरकारी बाइक भी चोर ले उड़े हैं। सब इंस्पेक्टर सुरेश प्रसाद त्रिपाठी ने 17 अक्टूबर को कोतवाली थाने में FIR दर्ज कराई थी कि पुलिस विभाग की सरकारी बाइक चोरी हुई है। वहीं राखी थाने में भी एक बीएसएफ जवान की बाइक 9 अक्टूबर को चोरी हुई थी, जो अब तक नहीं मिली है।

मौदहापारा थाने में अक्टूबर महीने में सर्वाधिक 11 बाइक चोरी हुई।

मौदहापारा थाने में अक्टूबर महीने में सर्वाधिक 11 बाइक चोरी हुई।

4 महीने बाद पुलिस ने लिखी FIR

जब पीड़ित चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचता है, तो पुलिस पहले उसे अपने स्तर पर खोजबीन करने को कहती है। इसके बाद एक से चार महीने तक FIR दर्ज करने में लग जाते हैं। पुरानी बस्ती थाने में 9 अक्टूबर को विनयधर दीवान की FIR दर्ज हुई है, जबकि बाइक चोरी अगस्त महीने में हुई थी।

वहीं सरस्वती नगर में तीज लाल ध्रुव की बाइक अनुपम गार्डन से 28 जून को चोरी हुई थी। जिसकी 4 महीने बाद 19 अक्टूबर को FIR दर्ज हुई। हालांकि इस मामले में लेटलतीफी का कारण पीड़ित को कानूनी जानकारी नहीं होना बताया गया।

जब पीड़ित चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचता है, तो पुलिस पहले उसे अपने स्तर पर खोजबीन करने को कहती है।

जब पीड़ित चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचता है, तो पुलिस पहले उसे अपने स्तर पर खोजबीन करने को कहती है।

मालिक को दुकान में बंद कर बाइक की चोरी

चोर ने दुकान के बाहर मालिक की गाड़ी का लॉक तोड़ा, फिर दुकान मालिक को अंदर बंद कर फरार हो गया। इसके बाद मलिक ने किसी तरह खुद को बाहर निकाला। फिर 25 अक्टूबर को तिल्दा नेवरा थाने में मामला दर्ज कराया।

दूसरे की मदद करने रुकने पर गाड़ी पार

आजाद चौक थाने में एक व्यक्ति ने एफआईआर दर्ज कराई है कि वो अपने घर की तरफ जा रहा था। तभी लाखे नगर के पास सड़क पर गिरी एक लड़की की मदद करने के लिए रुका। उसने अपनी बाइक किनारे में खड़ी की और मदद करने लगा। इस बीच करीब 15 मिनट के भीतर ही उसकी बाइक किसी ने चोरी कर ली।

ऐसा ही एक मामला आरंग थाने का भी है। जिसमें शख्स की तबीयत बिगड़ी और वो बेहोश हो गया। इतने में ही उसकी बाइक किसी ने चोरी कर ली।

दर्द बांटने मेकाहारा अस्पताल पहुंचे मरीज के परिजन भी निशाने पर

मेकाहारा हॉस्पिटल में अपने परिचित मरीजों का दर्द बांटने पहुंच रहे लोग भी चोरों के निशाने पर हैं। चोर इतने सक्रिय है कि वो परिजनों के अस्पताल के अंदर घुसते ही लॉक तोड़कर चोरी की वारदात को अंजाम दे रहे हैं। महज अक्टूबर महीने में यहां से अब तक 7 बाइक चोरी हो चुकी है।

मेकाहारा अस्पताल के बाहर से भी चोरी हो रहीं बाइकें।

मेकाहारा अस्पताल के बाहर से भी चोरी हो रहीं बाइकें।

किस थाने से कितने बाइक चोरी हुए ?

चोरी की आंकड़ों की बात की जाए, तो अक्टूबर में अब तक 86 बाइक चोरी हो चुके हैं। जिसमें मौदहापारा थाने से 11, कोतवाली से 8, आजाद चौक से 6, उरला से 5, खमतराई और सिविल लाइन में 5-5, पुरानी बस्ती और गुढ़ियारी में 4-4, खम्हारडीह में 3 और अन्य थानों में भी एक-दो चोरी के मामले सामने आए हैं।

हम इसे गंभीरता से ले रहे, स्पेशल टीम की जांच जारी- एएसपी

रायपुर क्राइम ASP पीतांबर पटेल ने कहा कि मामला पुलिस के संज्ञान में आने के बाद क्राइम की स्पेशल टीम का गठन किया गया। इन बाइक चोरी के पीछे किसी बाहरी गिरोह के शामिल होने के एंगल से भी जांच चल रही है। इसमें तकनीकी टीम को भी लगाया गया है। थाना स्तर पर पुराने चोरों से भी पूछताछ की जा रही है। जल्द एक्शन लेकर आरोपियों की धड़पकड़ की जाएगी।

इंजीनियर के पास से 40 बाइकें बरामद की गईं थी

रायपुर पुलिस ने अगस्त में एक इंजीनियर के पास से 40 चोरी की बाइक बरामद की थी। राहुल वर्मा नाम का यह युवक रैपिडो बाइक टैक्सी सर्विस के लिए काम करता था। ये अपने गाड़ी के पेट्रोल के पैसे बचाने के लिए कुछ मिनटों में दूसरी गाड़ी चोरी कर लेता था। जिससे इसे पेट्रोल डलवाना न पड़े। पुलिस ने शहर के अलग-अलग जगह से 40 गाड़ियां बरामद की थी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular