Sunday, December 10, 2023
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: ऑनलाइन ठगी का मामला... क्रेडिट कार्ड अपडेट कराने का झांसा, 9...

CG: ऑनलाइन ठगी का मामला… क्रेडिट कार्ड अपडेट कराने का झांसा, 9 लाख ऑनलाइन ठगे फिर आईफोन खरीदा; पुलिस ने रोका 6.50 लाख का ट्रांजेक्शन

रायपुर: क्रेडिट कार्ड अपडेट कराने का झांसा देकर ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के आरोपियों को पुलिस ने दिल्ली में छापा मारकर दबोचा है। गिरोह का मास्टर माइंड हरियाणा और उसका साथी उत्तरप्रदेश का रहने वाला है। दोनों ने कई राज्यों में ऑनलाइन ठगी की है।

पिछले दिनों उनहोंने कुम्हारी के युवक से 9 लाख से ज्यादा की ठगी और खाते में रकम आते ही नया आईफोन भी खरीद लिया। ठगी की रिपोर्ट होते ही पुलिस ने तेजी से प्रक्रिया पूरी की और 6.50 लाख ठगों के निकालने के पहले ही खाते में होल्ड करवा दिए।

पुलिस अफसरों के अनुसार जल्द ही यह रकम पी​ड़ित को वापस की जाएगी। पुलिस ने गुरुवार को ठगी के गिरोह का खुलासा करते हुए बताया कि कुम्हारी निवासी रोहित कुमार साहू का एक्सिस बैंक पंडरी में बचत खाता है। 12 जून को उसे जानकारी मिली की उसके बैंक खाते में अलग-अलग किस्तों में लगभग 5 लाख जमा हुए, जिसमें 4 लाख तुरंत निकल भी गए।

बैंक वालों को जब उसने यह जानकारी दी तो उसका खाता ब्लॉक कर दिया गया। रोहित इसी खाते से अपने होम लोन की किस्त अदा करता था। इसलिए जब उसने यह ब्लॉक हटवाया तो पता चला कि 30 जून 2023 से 1 जुलाई 2023 तक उनके खाते से कुल 9 लाख 18 हजार निकल गए।

सायबर थाने में मामले की एफआईआर दर्ज होने के बाद जांच शुरू की गई तो पता चला कि जिस नंबर से रोहित को फोन आया था उससे कई राज्यों में इसी तरह की ठगी की गई। ऐसे सभी नंबरों की गंभीरता से जांच की गई। इसके बाद एक आरोपी का लोकेशन भी ट्रेस हो गया।

आरोपी के दिल्ली में होने की जानकारी मिलने के बाद एक टीम वहां के लिए रवाना की गई। टीम ने कैंप कर आरोपी मनीष सिंह उर्फ लक्की को गिरफ्तार किया। उसी की सूचना पर उसके साथी वसीम अहमद को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

खाते का उपयोग ठगी के पैसों के ट्रांजेक्शन में भी

पुलिस अफसरों ने बताया कि रोहित के खाते को ठगों ने हैक कर लिया था। वे उसके खाते का उपयोग ठगी के पैसों का ट्रांजेक्शन करने में भी कर रहे थे। ठग देश के अलग-अलग राज्यों में ठगी करने के बाद पैसा रोहित के खाते में ट्रांसफर करते थे। उसके बाद निकालते थे। ठगों ने जब 5 लाख रोहित के खाते में ट्रांसफर किया तो मोबाइल पर मैसेज आया। उसी को देखकर वह चौंका और बैंक गया। वहां स्टेटमेंट चेक करने के बाद पता चला कि वे उसके खाते का भी उपयोग कर रहे थे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular