Sunday, May 26, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: हाथी ने ग्रामीण को कुचलकर मार डाला... बायां पैर शरीर से...

CG: हाथी ने ग्रामीण को कुचलकर मार डाला… बायां पैर शरीर से अलग, साथियों के साथ जड़ी-बूटी लाने गया था जंगल

बलौदाबाजार: जिले के अर्जुनी वनपरिक्षेत्र के तहत महकोनी बीट में दंतैल हाथी ने एक व्यक्ति को कुचलकर मार डाला। हमले में गरीबा बंजारे (50) का हाथ शरीर से अलग हो गया। घटना के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है।

जानकारी के मुताबिक, बिलाईगढ़ के सिंधिटार गांव का रहने वाला गरीबा बंजारे अपने 2 और साथियों के साथ दलदली महकोनी के जंगल में जड़ी-बूटियां जुटाने के लिए गया था। तीनों ने गिधौरी पठार बहरानार के पास कैंप लगाकर खाना बनाया। खाना खाने के बाद तीनों कैंप में आराम कर रहे थे।

जंगल में पड़ा ग्रामीण का क्षत-विक्षत शव।

जंगल में पड़ा ग्रामीण का क्षत-विक्षत शव।

हाथी ने पैरों से ग्रामीण को कुचला

इसी बीच रविवार रात करीब 1.30 बजे दंतैल हाथी अपने झुंड से बिछड़कर कैंप में पहुंच गया और गरीबा बंजारे को अपने पैरों से कुचल डाला। इससे उसका बायां पैर शरीर से अलग हो गया। वहीं, अंधेरे की वजह से उसके दोनों साथियों की जान बच गई। हाथी को देखकर दोनों कैंप से भाग गए। हाथी के चले जाने के बाद दोनों लौटे, तो वहां गरीबा का क्षत-विक्षत शव पड़ा मिला।

वन विभाग ने जारी किया अलर्ट

रात भर दोनों शव के पास ही बैठे रहे, ताकी कोई जंगली जानवर उसे खा न जाए। सोमवार सुबह दोनों ग्रामीणों ने घटना की सूचना वन विभाग और गांववालों को दी। सूचना मिलने पर वनकर्मी मौके पर पहुंचे और पंचनामा बनाकर शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवाया। वन विभाग ने मुनादी करवाकर अलर्ट जारी किया है। लोगों को शाम के बाद जंगल में नहीं जाने की चेतावनी दी गई है।

गरियाबंद जिले में एलीफैंट ऐप कारगर, हर जिले में लागू होगा

इधर, गरियाबंद जिले के उदंती सीता नदी अभयारण्य में एलीफैंट अलर्ट ऐप के इस्तेमाल से हाथियों के हमले कम हुए हैं। हाल ही में हाथियों ने यहां 3 लोगों को मार डाला था, जिसके ‍‍‍‍‍‍‍बाद वन विभाग के अफसरों ने लोगों की सुरक्षा को लेकर एक अलर्ट ऐप डेवलप कराया है। अब इस इलाके में पिछले 7 महीने से कोई जनहानि नहीं हुई है। मैनुअल डाटा और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी को कम्बाइन कर हाथी अलर्ट ऐप बनाया गया है।

ये ऐप हाथियों की मौजूदगी को 10 किमी सर्किल के गांवों में एक साथ अलर्ट कर देता है। ऐप की सफलता को देखते हुए प्रदेशभर केहाथी प्रभावित जिलों में सिस्टम को लागू किया जाएगा। 12 जिलों में प्रशिक्षण पूरा हो चुका है, जिसमें 6 प्रभावित जिलों के 180 गांव रजिस्टर्ड हो चुके हैं। अब तक ऐप 89, 5000 मैसेज ट्रिगर कर चुका है। पिछले दो साल में अभयारण्य क्षेत्र में हाथी 10 से ज्यादा लोगों को मार चुके हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular