Thursday, June 20, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: ढाई साल की बच्ची पर कुत्तों का हमला... खेलने के दौरान...

CG: ढाई साल की बच्ची पर कुत्तों का हमला… खेलने के दौरान घसीटते हुए ले गए, 17 जगह चेहरे और शरीर को नोंचा; युवकों ने बचायी जान

RAIPUR: राजधानी रायपुर में आवारा कुत्तों का आतंक जारी है। रामनगर इलाके में कुत्तों ने ढाई साल की बच्ची पर हमला कर दिया। बाकी बच्चों के शोर मचाने के बाद परिजन पहुंचे और कुत्तों को खदेड़ा तब जाकर बच्ची की जान बच पाई लेकिन बच्ची के चेहरे और शरीर पर कई जगह खरोंच आई है।

घटना रविवार की है जब गुलमोहर पार्क में ढाई साल की बच्ची बाहर खेल रही थी तभी अचानक कुत्तों का झुंड वहां पहुंच गया और उस पर हमला कर दिया। बच्ची को घसीटते कुत्ते हुए ले गए और नोचने लगे। लोगों का आरोप है कि शिकायत के बाद भी नगर निगम की टीम मौके पर नहीं पहुंची।

सिर के साथ ही बच्ची को कुत्तों ने शरीर में भी कई जगह नोंचा है।

सिर के साथ ही बच्ची को कुत्तों ने शरीर में भी कई जगह नोंचा है।

पहले भी हो चुकी है घटनाएं

बच्ची के पिता नितेश अग्रवाल ने बताया कि बच्ची के सिर, चेहरे और शरीर में 15 से ज्यादा जगह खरोंच आई है। उन्होंने कहा कि सही समय पर पहुंचकर हमने कुत्तों को खदेड़ा तब जाकर बच्ची की जान बच पाई। इलाज के बाद अब बच्ची घर में सही सलामत है।

ये कोई पहला मामला नहीं है कि आवारा कुत्तों ने किसी मासूम बच्ची पर हमला किया हो। रामनगर इलाके के स्थानीय लोगों का कहना है कि कॉलोनी में ही कुत्तों के काटने की कई घटनाएं हो चुकी है। इलाके में कुत्तों की संख्या लगातार बढ़ रही है लेकिन नगर निगम का अमला इस मामले पर ध्यान नहीं देता। इसके अलावा शहर के बाकी इलाकों में भी कई बार कुत्तों के काटने की घटना आ चुकी है।

दूसरे बच्चों के शोर मचाने पर परिजन पहुंचे और बच्ची को बचाया

दूसरे बच्चों के शोर मचाने पर परिजन पहुंचे और बच्ची को बचाया

निगम ने कहा- लगातार हो रही कार्रवाई

नगर निगम का कहना है कि हर दिन करीब 16-17 और महीने में लगभग 425 से ज्यादा कुत्तों की नसबन्दी हो रही है। इसके बाद सभी को एंटी रैबीज वैक्सीनेशन भी किया जाता है। सोमवार को भी सुबह 7 बजे गुलमोहर पार्क रामनगर पहुंचकर डॉग कैचर टीम ने 7 कुत्तों को पकड़ा साथ ही शाम को भी 3 कुत्तों को पकड़ा गया है।

शिकायत के बाद कुत्तों को पकड़ने का अभियान चलाया गया।

शिकायत के बाद कुत्तों को पकड़ने का अभियान चलाया गया।

रायपुर निगम की टीम नसबंदी अभियान और धरपकड़ में लाखों का बजट तो खर्च कर रहा है लेकिन इसके बावजूद आवारा कुत्तों की तादाद और उनके हमले बढ़ते जा रहे हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular