Tuesday, July 23, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाछत्तीसगढ़ में आदिवासी नेता नंद कुमार साय के इस्तीफे को लेकर सियासत गरम......

छत्तीसगढ़ में आदिवासी नेता नंद कुमार साय के इस्तीफे को लेकर सियासत गरम… पूर्व मंत्री अमरजीत भगत का आरोप, कहा- ये सब BJP की प्लानिंग थी, कांग्रेस की रणनीति जानने आए थे; चुनाव खत्म इसलिए जा रहे वापस… CM विष्णुदेव बोले- कांग्रेस डूबती नैया

रायपुर: आदिवासी नेता नंद कुमार साय के इस्तीफ़े को लेकर सियासत गरमाती नज़र आ रही है। पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता अमरजीत भगत ने साय के इस्तीफ़े को लेकर कहा है कि ये सब भारतीय जनता पार्टी ने एक प्लानिंग के तहत किया था। चुनाव से पहले कुछ लोगों को यहां की रणनीति के बारे में जानकारी लेने के लिए भेजा गया था।

यहां के सीक्रेट जानने के लिए लोगों भेजा था। प्लानिंग के तहत नंद कुमार साय कांग्रेस में आए थे। कांग्रेस की रणनीति के बारे में जानकारी लेने वो आए थे। चुनाव खत्म फिर वो वापस जा रहे है।

8 महीने पहले नंद कुमार साय कांग्रेस में हुए थे शामिल

8 महीने पहले नंद कुमार साय कांग्रेस में हुए थे शामिल

कांग्रेस डूबती हुई नाव- सीएम साय

नंदकुमार साय के कांग्रेस छोड़ने पर सीएम विष्णुदेव साय ने कहा कांग्रेस डूबती नैया है, इसलिए सब छोड़कर भाग रहे हैं, उनके विधायक भी छोड़कर भाग रहे हैं. नंदकुमार साय हमारे वरिष्ठ हैं, मार्गदर्शक रहे हैं. उन्होंने हमलोगों को पार्टी में लाया। आगे क्या होगा ये संगठन और अध्यक्ष का विषय है।

जब भाजपा छोड़ी थी साय ने
1 मई 2023 को नंदकुमार साय ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने तब भाजपा से दिए इस्तीफे में लिखा था- मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। मेरी गरिमा को लगातार ठेस पहुंचाई जा रही है, जिससे मैं आहत महसूस कर रहा हूं। बहुत गहराई से विचार करने के बाद मैंने बीजेपी में अपने सभी पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया है।

साय का करियर

  • वे पहली बार 1977, फिर 1985 और 1998 में मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं। साल 2000 में वे छत्तीसगढ़ विधानसभा के सदस्य बने और पहले विपक्ष के नेता बने थे।
  • साय 1989, 1996 और 2004 में लोकसभा सांसद भी रह चुके हैं। इसके साथ ही 2009 और 2010 में वह राज्यसभा के लिए चुने जा चुके हैं।
  • नंद कुमार अपने गृह गांव भगोरा में खुद के खेतों में हल चलाते हुए और बुबाई करते देखा जा सकता है।
  • इसके पीछे उनका तर्क है कि बचपन से खेती से जुड़े होने के कारण आज भी वे किसान ही हैं।
  • वह अविभाजित मध्यप्रदेश में बाद में छत्तीसगढ़ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं।
  • कांग्रेस सरकार के समय वह छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे हैं।
  • साय अब तक चार बार विधायक रहे। तीन बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा के सांसद रहे।
  • साय बेहद सादा जीवन जीते हैं। फ्लाइट से सफर करना जरूरी हो तो इकोनॉमी क्लास चुनते हैं।
  • उनका कहना है कि संसद का पैसा आदमी के टैक्स से आता है, उसे सोच-समझकर खर्च करना चाहिए।
  • एक किसान परिवार में 1 जनवरी 1946 में नंदकुमार साय का जन्म हुआ।
  • उन्होंने सरकारी नौकरी की तैयारी की और 1973 में नायब तहसीलदार के पद पर चयनित भी हुए लेकिन नौकरी पर नहीं गए।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में नंदकुमार साय को 2017 में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया था।
  • 2023 मई में उन्होंने भाजपा को छोड़ कांग्रेस ज्वाइन की थी।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular