Monday, April 15, 2024
Homeकवर्धाअमरजीत और करीबियों से मिला ढाई करोड़ कैश: रियल स्टेट में करोड़ों...

अमरजीत और करीबियों से मिला ढाई करोड़ कैश: रियल स्टेट में करोड़ों का निवेश; CBDT ने अंबिकापुर कलेक्टर से मांगा 13 लोगों की संपत्ति का ब्यौरा

अंबिकापुर/रायपुर: छत्तीसगढ़ के पूर्व खाद्य मंत्री अमरजीत भगत और करीबियों के ठिकानों पर आईटी की जांच में करोड़ों रुपए की अघोषित संपत्ति मिली है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) नई दिल्ली की प्रिंसिपल कमिश्नर और प्रवक्ता सुरभि अहुलवालिया ने प्रेस रिलीज में इसकी जानकारी दी है। 25 ठिकानों पर एकसाथ छापेमारी के दौरान ढाई करोड़ कैश और जेवर समेत अघोषित संपत्ति के दस्तावेज जब्त किए हैं।

अहुलवालिया ने बताया है कि आयकर विभाग ने 31 जनवरी 2024 को अमरजीत भगत, करीबी सहयोगियों और कुछ सरकारी अधिकारियों के ठिकानों पर जांच अभियान शुरू किया था। अमरजीत के करीबी सहयोगियों में से एक रियल एस्टेट के कारोबार में है। आयकर विभाग ने अंबिकापुर कलेक्टर को पत्र लिखकर 13 लोगों की संपत्ति का ब्यौरा मांगा है।

अमरजीत भगत के अंबिकापुर निवास में आईटी जांच (फाइल फोटो)

अमरजीत भगत के अंबिकापुर निवास में आईटी जांच (फाइल फोटो)

अघोषित बैलेंस शीट और डिजिटल सबूत मिले

तलाशी अभियान में छत्तीसगढ़ के रायपुर, सरगुजा, सीतापुर और रायगढ़ जिलों में फैले 25 से ज्यादा परिसरों को कवर किया गया। तलाशी अभियान के दौरान, कई आपत्तिजनक दस्तावेज़, अघोषित बैलेंस शीट और डिजिटल सबूत मिले हैं, जिन्हें जब्त किया गया है।

13 करोड़ की अवैध कमाई रियल स्टेट में लगी

आयकर विभाग ने बताया कि जब्त सबूत इन व्यक्तियों के भ्रष्टाचार और दूसरे संदिग्ध कारनामों को उजागर करते हैं। शुरुआती एनालिसिस से पता चलता है कि इन व्यक्तियों ने सरकार से जुड़े कामों में अलग-अलग व्यक्तियों को अनुचित लाभ देने के बदले में अवैध धन हासिल किया है।

तलाशी के दौरान बरामद आपत्तिजनक दस्तावेजों में करीबी सहयोगियों के जरिए अमरजीत की 13 करोड़ रुपए की अवैध कमाई का जिक्र है। इसके अलावा जब्त सबूतों से पता चलता है कि गलत तरीके से कमाया गया यह पैसा पीईपी के सहयोगियों के जरिए रियल एस्टेट में निवेश किया गया है।

CBDT ने प्रेस रिलीज में किया है खुलासा।

CBDT ने प्रेस रिलीज में किया है खुलासा।

सहयोगियों के 8 करोड़ रियल स्टेट में

आयकर विभाग को अचल संपत्ति की खरीद में ऑन-मनी (नगद) भुगतान का प्रमाण मिला है। 3 करोड़ रुपए से ज्यादा के बेहिसाब नगद व्यय के साक्ष्य मिले हैं। रियल एस्टेट कारोबार में PEP (POLITICAL EXPOSED PERSON) के सहयोगियों से कमाए गए 8 करोड़ रुपए भी पाए गए हैं।

ऐसे सबूतों की सच्चाई को (PEP) अमरजीत भगत के करीबी सहयोगियों और उनके कर्मचारियों के बयानों से भी बल मिला है।

ढाई करोड़ नगदी और ज्वेलरी भी हुआ है जब्त।

ढाई करोड़ नगदी और ज्वेलरी भी हुआ है जब्त।

सहयोगियों ने हड़पी जमीन, पुनर्वास जमीन खरीदी में भी पद का दुरुपयोग

आयकर विभाग के अनुसार PEP (अमरजीत भगत) के करीबी सहयोगियों के अवैध रूप से जमीन हड़पने से जुड़े आपत्तिजनक दस्तावेज भी पाए गए हैं। जिन किसानों और प्रभावित व्यक्तियों की भूमि इस तरह से हस्तांतरित की गई है। उन्होंने भी अपने बयान में माना है कि भूमि लेनदेन PEP (अमरजीत भगत) के पद और प्रभाव से किया था।

इसी तरह अमरजीत भगत के पद और प्रभाव का इस्तेमाल उनके सगहयोगियों ने “पुनर्वास पट्टा“ की खरीद की अनुमति पाने में भी किया था।

पत्नी की पाइप कंपनी में भी हिसाब में गड़़बड़ी

ह्यूम पाइप्स कंपनी चला रही ​​​​​​​PEP (अमरजीत भगत) की पत्नी के स्वामित्व वाले कारखाने के परिसर से बैंक क्रेडिट के मुकाबले टर्नओवर में गड़बड़ी मिली है। तलाशी अभियान के दौरान घोषित संपत्ति से अधिक की बेहिसाब नगदी और आभूषण जब्त किए गए हैं। आयकर विभाग की जांच जारी है।

आयकर विभाग ने कलेक्टर सरगुजा को भेजा है पत्र

आयकर विभाग ने कलेक्टर सरगुजा को भेजा है पत्र

अमरजीत ने कहा था परेशान करने की कोशिश
IT के छापों पर अमरजीत भगत ने कहा था कि वे भारत जोड़ो न्याय यात्रा के संयोजक हैं, इस कारण उन्हें परेशान करने के लिए छापे मारे गए हैं। आदिवासी नेताओं को राजनीति करने का हक नहीं है क्या? माना जा रहा है कि IT की पूरी जांच के बाद अघोषित कमाई का आंकड़ा बढ़ सकता है।

अमरजीत भगत के करीबियों का मांगा गया है ब्यौरा

अमरजीत भगत के करीबियों का मांगा गया है ब्यौरा

आयकर विभाग ने मांगा है 13 करीबियों का ब्यौरा

​​​​​​​आयकर विभाग ने अंबिकापुर कलेक्टर को पत्र लिखकर 13 लोगों की संपत्ति का ब्यौरा मांगा है। विभाग ने पिछले पांच साल में जमीन की खरीदी और बिक्री की जानकारी मांगी है। साथ ही रियल एस्टेट कारोबार में निवेश या दूसरी प्रॉपर्टी के साथ-साथ जमीन आवंटन के अलावा FRA और दूसरे बेनिफिट का डिटेल उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। इन लोगों के यहां पिछले दिनों आयकर टीम ने जांच-पड़ताल भी की थी।

5 दिन चली कार्रवाई, 7.55 करोड़ संपत्ति घोषित की थी
IT की कार्रवाई अमरजीत भगत और उनसे जुड़े कारोबारियों के ठिकानों पर 5 दिनों तक चली। उनके करीबी व्यवसायी राजू अग्रवाल के घर के तीन कमरों को IT ने सील कर दिया है। साल 2023 के विधानसभा चुनाव में दिए गए शपथ पत्र में अमरजीत भगत ने अपने परिवार की कुल संपत्ति 7.55 करोड़ बताई है, जो साल 2018 में 5 करोड़ 87 लाख रुपए थी।

Muritram Kashyap
Muritram Kashyap
(Bureau Chief, Korba)
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular