Sunday, July 21, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG NEWS: सड़क हादसे में जीजा-साले की मौत... बाइक को गाड़ी ने...

CG NEWS: सड़क हादसे में जीजा-साले की मौत… बाइक को गाड़ी ने मारी टक्कर, पत्नी कर रही थी इंतजार; आई बुरी खबर; कहा- बहुत मना किया था

बलौदाबाजार: जिले के ग्राम कोदवा में जयंती कार्यक्रम देखने जा रहे जीजा-साला सड़क हादसे के शिकार हो गए। घोटिया मोड़ पर अज्ञात वाहन की जोरदार टक्कर से दोनों की मौत हो गई। मामला पलारी थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, लटवा गांव का रहने वाला भोजराम कनौजे (30) अपने ससुराल पलारी आया हुआ था। यहां वो अपने साले मुकेश कनौजे के साथ ग्राम कोदवा गया हुआ था। 18 दिसंबर को गुरु घासीदास जयंती थी, लेकिन उसके कार्यक्रम पूरे महीने गांव-गांव में चलते हैं। ग्राम कोदवा में आयोजित जयंती कार्यक्रम को देखने के लिए जीजा-साला एक ही बाइक पर सवार होकर गए हुए थे।

सड़क हादसे में जीजा-साले की मौत हो गई है।

सड़क हादसे में जीजा-साले की मौत हो गई है।

बाइक सवार जीजा-साले को गाड़ी ने मारी जोरदार टक्कर

गुरुवार रात 8 बजे रायपुर-बलौदाबाजार मुख्य मार्ग पर घोटिया के पास बाइक सवार जीजा-साले को अज्ञात वाहन ने जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। राहगीरों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने गंभीर रूप से घायल जीजा-साले को पलारी अस्पताल पहुंचाया। यहां प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को बलौदाबाजार रेफर किया गया। यहां निजी अस्पताल में इलाज के दौरान जीजा भोजराम और साले मुकेश की मौत हो गई।

पलारी थाना पुलिस घटना की जांच में जुटी। अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज।

पलारी थाना पुलिस घटना की जांच में जुटी। अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज।

पत्नी ने बाहर जाने से किया था मना, लेकिन युवक ने नजरअंदाज की बात

पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवाया। साले मुकेश की पत्नी भुनेश्वरी ने कहा कि उसने अपने पति को ठंड में बाहर जाने से काफी मना किया था, लेकिन उसने बात नहीं मानी। भोजराम और उसकी पत्नी दुलारी के 2 बच्चे हैं। वहीं मुकेश और भुनेश्वरी की शादी को ज्यादा वक्त नहीं हुआ था। उनके बच्चे नहीं हैं।

अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज

शुक्रवार को दोनों शवों का पोस्टमॉर्टम कराकर परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया गया है। पुलिस ने अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

रायपुर-बलौदाबाजार रोड पर सालभर में 50 से ज्यादा लोगों की मौत

रायपुर-बलौदाबाजार मार्ग पर एक साल में 50 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं सैकड़ों लोग घायल हो चुके हैं। इसकी मुख्य वजह रायपुर-बलौदाबाजार मार्ग पर 24 घंटे भारी वाहनों की आवाजाही है। भारी वाहनों के ड्राइवर टोल टैक्स बचाने के लिए इसी मार्ग से आवाजाही करते हैं, जिससे यहां हमेशा ट्रैफिक का दबाव बना रहता है। यही वजह है कि इस रोड पर अक्सर हादसे होते रहते हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular