Friday, July 19, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG: 11 हाथियों को देख थम गया ट्रैफिक... अंबिकापुर-बिलासपुर मेन रोड पर...

CG: 11 हाथियों को देख थम गया ट्रैफिक… अंबिकापुर-बिलासपुर मेन रोड पर हाथियों का दल, फसलों को पहुंचाया नुकसान; 2 को करंट भी लगा

सरगुजा: जिले में अंबिकापुर-बिलासपुर मुख्य मार्ग पर शनिवार सुबह हाथियों का दल पहुंच गया। 11 हाथियों को लखनपुर के पास नेशनल हाईवे-130 पार करता हुआ देखकर लोगों की भीड़ जमा हो गई। दोनों ओर गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। हाथियों के दल ने नेशनल हाईवे क्रॉस किया और रिहाइशी इलाके में पहुंच गया।

एक महीने से उदयपुर क्षेत्र में डटा 11 हाथियों का दल शनिवार सुबह लखनपुर नगर पंचायत क्षेत्र के रिहाइशी इलाके में पहुंच गया। लोग हाथियों की फोटो खींचने लगे और वीडियो बनाने लगे। हाथियों के दल ने इलाके में फसलों को भी नुकसान पहुंचाया है। इस दौरान दो हाथियों को करंट का झटका लगा। हालांकि दोनों सुरक्षित हैं।

रिहाइशी इलाके में पहुंच गया हाथियों का दल।

रिहाइशी इलाके में पहुंच गया हाथियों का दल।

हाईवे पर पहुंचे हाथी, ट्रैफिक रुका

हाथियों का ये दल आबादी वाले क्षेत्र से लगे धान के खेतों से होकर चुल्हट नदी के पास से फिल्टर प्लांट होते हुए नेशनल हाईवे पर पहुंच गया। हाथियों के पहुंचने पर दोनों ओर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई। सूचना ​मिलते ही पुलिस की डायल 112 की टीम भी मौके पर पहुंची थी।

नेशनल हाईवे पर थमे वाहनों के पहिए।

नेशनल हाईवे पर थमे वाहनों के पहिए।

नजदीकी जंगल में चले गए हाथी

नेशनल हाईवे को पार कर हाथी पुराने इंजीनियरिंग कॉलेज भवन के ठीक बगल से होकर पास के जंगल में चले गए। हाथियों का दल करीब एक घंटे तक नेशनल हाईवे और रिहाइशी इलाके में डटा रहा। इस दौरान वन विभाग का अमला मौके पर नहीं पहुंचा। बताया जा रहा है कि हाथियों का ये दल कुंवरपुर जंगल में डटा हुआ है।

हाईवे के पास हाथियों का दल।

हाईवे के पास हाथियों का दल।

दो हाथियों को लगा करंट

फिल्टर प्लांट के पास हाथी करंट की चपेट में आने से बाल-बाल बचे। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि फिल्टर प्लांट के पास असुरक्षित तरीके से बिजली ट्रांसफॉर्मर लगा हुआ है। यहां से गुजरते समय दो हाथियों को करंट का झटका लगा, तो वो छिटककर दूर गिर गए। सूचना पर बिजली वितरण कंपनी ने तत्काल बिजली आपूर्ति रोक दी।

रिहायशी इलाके के पास डटे हैं हाथी

कुंवरपुर जंगल से रिहायशी इलाका पास में है। इसके बाद भी न तो वन विभाग का अमला मौके पर पहुंचा, न ही कोई वनकर्मी हाथियों की निगरानी करता दिखा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular