Monday, May 20, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाCG न्यूज़: छत्तीसगढ़ के कई शहरों में IT का छापा.. कोरबा, रायगढ़,...

CG न्यूज़: छत्तीसगढ़ के कई शहरों में IT का छापा.. कोरबा, रायगढ़, और रायपुर में कोयला कारोबारियों के यहां कार्रवाई; सुबह 5 बजे 50 गाड़ियों में पहुंची टीम; टैक्स चोरी के शक में जांच जारी, मचा हडकंप

रायपुर: छत्तीसगढ़ में एक बार फिर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने छापा मारा है। रायगढ़, कोरबा और रायपुर में कोयला कारोबार से जुड़े कारोबारियों के घर कार्रवाई की जा रही है। बताया जा रहा है कि एक दिन पहले ही 50 से ज्यादा अफसरों की टीम राजधानी पहुंची थी।

रायगढ़ में NR ग्रुप के मालिक संजय अग्रवाल के ठिकानों पर जांच जा रही है। 50 से ज्यादा गाड़ियों में IT की टीम पहुंची है। शहर के गजानंद नगर में कोयला कारोबारी राकेश शर्मा के घर भी कार्रवाई जारी है। रायपुर में लॉ विस्टा सोसायटी में रामगोपाल अग्रवाल सहित कई कोयला कारोबारियों के घर में IT टीम दस्तावेज खंगाल रही है।

5000 करोड़ का एमओयू करने की चर्चा
NR इस्पात के मालिक संजय अग्रवाल ने पिछले दिनों राज्य सरकार से 5000 करोड़ रुपए का एमओयू साइन किया था। इसके साथ ही उन्होंने पिछले 2 साल में अपने प्लांट का एक्सटेंशन 2000 करोड़ रुपए की लागत से कराया था। इसके बाद से ही वह IT के रडार पर थे। ऐसा माना जा रहा है कि इन्हीं बड़े लेन-देन के इनपुट पर IT ने छापा मारा है।

आयकर विभाग ने सत्तीगुड़ी चौक में एनआर ग्रुप के अकाउंटेंट के घर में भी दबिश दी। आयकर की कार्रवाई सुबह 5 बजे से चल रही है। कारोबारी संजय अग्र‌वाल के घर और फैक्ट्री पर एक दर्जन से ज्यादा IT के अफसर दस्तावेजों की जांच में जुटे हैं। सुबह से फैक्ट्री में IT अधिकारियों की रेड से प्लांट में हड़कंप मचा है। घर में भी टीम दस्तावेज की जांच कर रही है। आयकर विभाग के अधिकारी ऑफिस के बहीखाते और कंप्यूटर हार्ड डिस्क की जांच कर रहे हैं।

50 से ज्यादा गाड़ियों में पहुंची टीम
रायगढ़ शहर में NR ग्रुप के घर और ऑफिस में ITकी टीम कार्रवाई कर रही है। अधिकारी सुबह 5 बजे से CRPF के जवानों के साथ रायगढ़ पहुंची। NR ग्रुप के बाहर बड़ी संख्या में आईटी की गाड़ियां मौजूद है। गाड़ियों की संख्या 50 से ज्यादा बताई जा रही है।

1 माह पहले पड़े थे ED के छापे
आयकर के छापे से ठीक एक माह पहले छत्तीसगढ़ के रायगढ़, रायपुर, बिलासपुर, कोरबा और महासमुंद जिले में ईडी ने छापा मारा था। इन शहरों में ED के अधिकारी देर रात पहुंच चुके थे और सुबह 5 बजे अलग-अलग ठिकानों पर छापा मारा गया। एक ही वक्त पर ED के अधिकारी 10 से ज्यादा जगहों पर अलग-अलग टीम बनाकर कार्रवाई की थी। जिन जगहों पर छापा मारा गया था, उनमें कारोबारी और CA शामिल थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस छापे को डराने की कोशिश बताया था। उन्होंने कहा था कि, यह आखिरी नहीं है। चुनाव तक ये बार-बार आएंगे।

ED के अफसर CRPF की टीम के साथ दबिश दी थी। अधिकारियों और कारोबारियों के घरों में दस्तावेजों को खंगाला गया। इन अधिकारियों और कारोबारियों को लेकर ED को करोड़ों रुपए के अवैध लेनदेन की सूचना मिली थी। इसी संबंध में जांच की गई थी।

मुख्यमंत्री पहले ही उठा चुके हैं सवाल

ED के छापे पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था कि, रमन सिंह ED के प्रवक्ता बने घूम रहे हैं। जांच करना है, तो पनामा घोटाले की क्यों नहीं हो रही है। उसमें रमन सिंह और उनके लड़के का साफ नाम है। बताना चाहिए कि 10 साल में उनकी आय कैसे बढ़ गई। केंद्रीय एजेंसी गैर भाजपा राज्यों में ही भेजी जा रही है। छत्तीसगढ़ में प्रवर्तन निदेशालय-ED की छापेमारी के बाद पहली बड़ी कार्रवाई हुई थी। गुरुवार को IAS समीर विश्नोई के घर में 4 किलो सोना और 20 कैरेट हीरा मिला था। इसके साथ 47 लाख रुपए कैश मिले थे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular