Tuesday, July 16, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबाKORBA: SECL कोरबा के सराईपाली खदान में कम ठप... मजदूरों ने ठेका...

KORBA: SECL कोरबा के सराईपाली खदान में कम ठप… मजदूरों ने ठेका कंपनी पर मनमानी का लगाया आरोप, कहा- नहीं दिया जा रहा बढ़ा वेतन

KORBA: कोरबा एसईसीएल एरिया अंतर्गत सराईपाली खदान में नियुक्त स्टारएक्स मिनरल्स कंपनी के खिलाफ कर्मचारियों ने मोर्चा खोल दिया है। कोयला मजदूर पंचायत के नेतृत्व में कंपनी का काम ठप कर आंदोलन किया जा रहा है। इस आंदोलन से कंपनी को भारी नुकसान हो रहा है।

दरअसल, सराईपाली ओपन कास्ट परियोजना में कार्यरत ठेका कंपनी स्टारएक्स मिनरल्स पर मजदूरों ने मनमानी का आरोप लगाया है। इस संबंध में कोयला मजदूर पंचायत के केन्द्रीय उपाध्यक्ष गजेन्द्र सिंह तंवर ने कोरबा एरिया महाप्रबंधक के नाम लेटर लिखा है।

कंपनी पर मनमानी का आरोपी

लेटर में बताया गया है कि कंपनी आए दिन मनमानी और गैरजिम्मेदाराना रवैया अपना रही है। इससे मजदूरों में असंतोष व्याप्त हो रहा है। संघ द्वारा पहले कई बैठकें महाप्रबंधक व उपप्रबंधक सराईपाली के साथ की जा चुकी है। इसके बाद भी कंपनी द्वारा लगातार शोषण किया जा रहा है। प्रताड़ना को लेकर प्रदर्शन व खदानबंद आंदोलन किया जा रहा है।

कोयला मजदूर पंचायत के नेतृत्व में मजदूरों ने किया काम ठप।

कोयला मजदूर पंचायत के नेतृत्व में मजदूरों ने किया काम ठप।

केन्द्रीय उपाध्यक्ष ने बताया कि कई वर्षों से कंपनी कोयले और ओबी का कार्य कर रही है। कंपनी का यह रवैया लंबे समय से बना हुआ है। कर्मचारियों को कभी काम पर बुलाया जाता है तो कभी नहीं। एमटीके हाजिरी भी नहीं लगाया जाता है।

कोयला मजदूर पंचायत ने कोरबा एरिया महाप्रबंधक के नाम लेटर लिखा।

कोयला मजदूर पंचायत ने कोरबा एरिया महाप्रबंधक के नाम लेटर लिखा।

बढ़े हुए दर पर वेतनमान नहीं दे रही कंपनी

कोयला खदानों में काम करने वाले ठेका मजदूरों के लिए हाईपावर कमेटी द्वारा वेतनमान निर्धारित किया गया है। जिसमें अलग अलग श्रेणी के कर्मियों को न्यूनतम 1176 से अधिकतम 1266 रुपए देने का प्रावधान है, लेकिन कंपनी द्वारा बढ़े हुए दर पर वेतनमान नहीं दिया जा रहा है।

वर्तमान में तीन दिनों से खदान का कार्य प्रभावित किया गया है। कोयला मजदूर पंचायत ने मामले पर संज्ञान लेते हुए उचित कार्रवाई करने की मांग की है। वहीं कार्रवाई नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी गई है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular