Tuesday, July 23, 2024
Homeछत्तीसगढ़कोरबामद्रास रबर फैक्ट्री ने रच दिया इतिहास... MRF का शेयर 1.5...

मद्रास रबर फैक्ट्री ने रच दिया इतिहास… MRF का शेयर 1.5 लाख रुपए का हुआ, यह रिकॉर्ड बनाने वाली भारत की पहली कंपनी; टॉय-बैलून बनाने से हुई थी शुरुआत

मुंबई: भारत में टायर बनाने वाली सबसे बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी MRF यानी मद्रास रबर फैक्ट्री के शेयर्स ने इतिहास रच दिया है। MRF के स्टॉक ने आज (17 जनवरी) बुधवार को कारोबारी सत्र में 1.5 लाख रुपए का रिकॉर्ड आंकड़ा पार कर लिया। ऐसा करने वाली MRF भारत की पहली कंपनी बन गई है।

स्टॉक ने 1,50,254.16 रुपए का ऑल टाइम हाई बनाया
स्टॉक ने ट्रेडिंग सेशन के दौरान 1,50,254.16 रुपए का ऑल टाइम हाई और 52 वीक हाई भी बनाया। हालांकि, MRF के शेयर में बाद में गिरावट देखने को मिली, यह 1.46% की गिरावट के साथ 1,34,600.05 रुपए पर बंद हुआ। कारोबारी सत्र की शुरुआत में इसका शेयर 1,35,870 रुपए पर ओपन हुआ था।

बुधवार को MRF का शेयर 1.46% की गिरावट के साथ 1,34,600.05 रुपए पर बंद हुआ।

बुधवार को MRF का शेयर 1.46% की गिरावट के साथ 1,34,600.05 रुपए पर बंद हुआ।

एक साल में MRF ​का​​ ​​​​स्टॉक 50% चढ़ा
एक दिन पहले यानी मंगलवार (16 जनवरी) को MRF का शेयर 1,36,684 रुपए पर बंद हुआ था। पिछले एक साल में इस शेयर में जबरदस्त तेजी देखने को मिली है। एक साल में यह स्टॉक करीब 50% चढ़ा है। बीते छह महीने में इसने अपने निवेशकों को 31.64% और 1 महीने में 12.71% का रिटर्न दिया है। कंपनी का मार्केट कैपिटलाइजेशन 57.29 हजार करोड़ रुपए है।

2016 में 50,000 रु का था MRF का शेयर
MRF का शेयर साल 2000 में 1000 रुपए का था। वहीं 2012 में यह 10,000 रुपए के स्तर पर पहुंचा। इसके बाद 2014 में इस स्टॉक (शेयर) ने 25,000 रुपए का आंकड़ा छुआ था। फिर ये 2016 में 50,000 रुपए पर पहुंचा। साल 2018 में 75,000 और जून 2022 को MRF के शेयर ने 1 लाख का स्तर पार किया था। अब MRF का स्टॉक 1.5 लाख रुपए के आंकड़े को पार कर चुका है।

MRF का स्टॉक आखिर इतना महंगा क्यों है?
इसके पीछे की वजह है कंपनी के शेयर्स का कभी स्प्लिट ना करना। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 1975 के बाद से ही MRF ने अभी तक अपने शेयर्स को कभी स्प्लिट नहीं किया है। वहीं, साल 1970 में 1:2 और 1975 में 3:10 के रेश्यो में MRF ने बोनस शेयर इश्यू किए थे।

MRF दुनिया के 75 से ज्यादा देशों में एक्सपोर्ट करती है
भारत में टायर इंडस्ट्री का मार्केट करीब 60,000 करोड़ रुपए का है। जेके टायर एंड इंडस्ट्रीज लिमिटेड और सिएट टायर्स MRF के कॉम्पिटिटर हैं। MRF के भारत में 2,500 से ज्यादा डिस्ट्रीब्यूटर्स हैं। इतना ही नहीं, ये कंपनी दुनिया के 75 से ज्यादा देशों में एक्सपोर्ट भी करती है।

MRF की टॉय-बैलून बनाने से हुई थी शुरुआत
चेन्नई बेस्ड MRF कंपनी का पूरा नाम मद्रास रबर फैक्ट्री है। इस कंपनी की शुरुआत 1946 में टॉय बैलून बनाने से हुई थी। 1960 के बाद से कंपनी ने टायर बनाना शुरू कर दिया था। अब यह कंपनी भारत में टायर की सबसे बड़ी मैन्युफैक्चरर है।

  • के. एम मैमन मापिल्लई MRF के फाउंडर हैं। वे पहले गुब्बारा बेचते थे। केरल में एक ईसाई परिवार में जन्मे मापिल्लई के पिता स्वतंत्रता सेनानी थे। आजादी की लड़ाई के दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।
  • पिता के जेल जाने के बाद घर की पूरी जिम्मेदारी मापिल्लई के कंधों पर आ गई, उनके 8 भाई-बहन थे। परिवार चलाने के लिए उन्होंने सड़कों पर गुब्बारे बेचने का काम शुरू किया। 6 साल तक गुब्बारे बेचने के बाद 1946 में उन्होंने रबर का बिजनेस करने का फैसला किया।
  • मापिल्लई ने इसके बाद बच्चों के लिए खिलौने बनाने का काम शुरू किया। साल 1956 आते-आते उनकी कंपनी रबर के कारोबार की बड़ी कंपनी बन चुकी थी। धीरे-धीरे उनका झुकाव टायर इंडस्ट्री की ओर बढ़ा।
  • साल 1960 में उन्होंने रबर और टायरों की एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बनाई। बाद में कारोबार बढ़ाने के लिए उन्होंने अमेरिका की मैन्सफील्ड टायर एंड रबर कंपनी के साथ समझौता किया।
  • साल 1979 तक कंपनी का कारोबार देश-विदेश में फैल चुका था। इसके बाद अमेरिकी कंपनी मैन्सफील्ड ने MRF में अपनी हिस्सेदारी बेच दी और कंपनी का नाम MRF लिमिटेड कर दिया गया।
  • साल 2003 में 80 साल की उम्र में मापिल्लई का निधन हो गया। मापिल्लई के निधन के बाद उनके बेटों ने बिजनेस संभाला और जल्द ही उनकी कंपनी नंबर-1 बन गई। टायर बनाने वाली कंपनी ने स्पोर्ट्स में भी काफी रुचि दिखाई।
  • MRF रेसिंग फॉर्मूला 1, फॉर्मूला कार, MRF मोटोक्रॉस जैसे सेक्टर में कंपनी नंबर-1 बनी। देश-विदेश में बिजनेस करने वाली इस कंपनी की ज्यादातर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट केरल, पुडुचेरी, गोवा और तमिलनाडु में है।
  • MRF कंपनी टायर, ट्रेड्स, ट्यूब्स, कन्वेयर बेल्ट्स, पेंट्स, खिलौने के अलावा स्पोर्ट्स गुड्स बनाती है। साल 2007 में कंपनी ने 1 अरब डॉलर के टर्नओवर को पार कर लिया था।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular